देश में 106 चीनी मिलें अभी भी पेराई कर रही है

339

नई दिल्ली: इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (ISMA) के अनुसार, देश भर की चीनी मिलों ने 1 अक्टूबर 2020 से 30 अप्रैल 2021 के बीच 299.15 लाख टन चीनी का उत्पादन किया है। यह पिछले साल के 258.09 लाख टन की तुलना में 41 लाख टन अधिक है। हालाँकि, 30 अप्रैल 2020 को 112 चीनी मिलें गन्ने की पेराई कर रही थीं, और इस साल 30 अप्रैल 2021 को 106 चीनी मिलें गन्ने की पेराई कर रही हैं।

महाराष्ट्र में, 30 अप्रैल 2021 तक चीनी का उत्पादन 105.63 लाख टन था, जबकि पिछले साल इसी अवधि में 60.95 लाख टन उत्पादन हुआ था, इस साल उत्पादन पिछले साल की तुलना में लगभग 44.68 लाख टन अधिक है। राज्य में वर्तमान में 167 मिलों ने अपने पेराई कार्यों को बंद कर दिया है और 23 चीनी मिलें अभी भी काम कर रही हैं, जबकि पिछले वर्ष इसी तिथि पर केवल 3 मिलें चल रही थीं।

यूपी की चीनी मिलों ने 30 अप्रैल 2021 को 105.62 लाख टन चीनी का उत्पादन किया है, जो पिछले वर्ष की इसी तारीख की 116.52 लाख टन के उत्पादन की तुलना में 10.90 लाख टन कम है। इस वर्ष संचालित 120 मिलों में से 75 मिलों ने अपनी पेराई समाप्त कर दी है और 45 मिलें अभी भी शुरू हैं।

कर्नाटक की सभी 66 चीनी मिलों ने अप्रैल 2021 के पहले सप्ताह तक अपने पेराई कार्यों को बंद कर दिया और कुल 41.67 लाख टन चीनी का उत्पादन किया है। पिछले साल इसी अवधि के दौरान, इस वर्ष की तरह, सभी चीनी मिलों ने अपने परिचालन को बंद कर दिया था और 33.82 लाख टन चीनी का उत्पादन किया था। हालांकि, पिछले साल के विशेष सीजन में 1.12 लाख टन चीनी उत्पादन किया गया था।

गुजरात ने 30 अप्रैल 2021 तक 10.15 लाख टन चीनी का उत्पादन किया है। पिछले साल 9.02 लाख टन चीनी का उत्पादन किया गया था। तमिलनाडु के मामले में, इस सीजन का संचालन करने वाली 27 चीनी मिलों में से 9 चीनी मिलों ने अब तक अपनी पेराई समाप्त कर दी है। 30 अप्रैल 2021 तक, राज्य में चीनी का उत्पादन 6.04 लाख टन रहा, जबकि पिछले साल इसी तारीख को 24 चीनी मिलों द्वारा 5.45 लाख टन उत्पादन किया गया था। शेष आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, बिहार, उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान और ओडिशा ने सामूहिक रूप से 30 अप्रैल, 2021 तक 30.04 लाख टन का उत्पादन किया है।

बाजार की रिपोर्टों के अनुसार, चीनी के निर्यात के लिए लगभग 54-55 लाख टन अनुबंध पहले ही अब तक दर्ज किए जा चुके हैं। यह 2020-21 सीजन के लिए लागू कुल MAEQ मात्रा का 90% से अधिक है। इसमें से लगभग 25.24 लाख टन चीनी का भौतिक रूप से देश से बाहर निर्यात किया गया है।

इथेनॉल के मोर्चे पर, कुल 325.93 करोड़ लीटर के मुकाबले, 302.53 करोड़ लीटर के लिए अनुबंध किये गये है और 117.72 करोड़ लीटर इथेनॉल की आपूर्ति 19 अप्रैल 2021 को हुई है। देश ने औसतन 7.36% का सम्मिश्रण प्रतिशत हासिल किया है, जबकि उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक, उत्तराखंड, बिहार, हरियाणा, पंजाब, दिल्ली, गोवा, गुजरात और हिमांचल प्रदेश जैसे 11 प्रमुख राज्यों ने 10% तक सम्मिश्रण किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here