मिलों के गोदामो में 11,62,000 टन चीनी का ‘ढेर’

445

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

अहमदनगर: चीनी मंडी

नगर विभाग के नगर और नासिक जिले की निजी और सहकारी मिलो द्वारा चिनी की बिक्री नहीं होने के कारण चीनी गोदाम में 11 लाख 62 हजार टन चीनी का ढेर लगा हैं। पेराई सत्र और सीजन के अंत के दौरान, लगभग 9 लाख टन चीनी बेची गई है।

चीनी की कीमतों में गिरावट के कारण चीनी मिलों के लिए चीनी का बिक्री कोटा तय किया गया है। इसलिए, चीनी मिलों को निर्धारित नियमों के अनुसार अपनी चीनी बेचनी पड रही है। नगर और नासिक जिले में कुल 29 चीनी मिलें हैं। दोनों जिलों में कुल 16.33 लाख टन चीनी उत्पादन हुआ है। पिछले साल के सीजन में, गोदाम में 4 लाख 30 हजार टन चीनी पड़ी थी, इसलिए कुल 20 लाख टन से अधिक चीनी बिक्री के लिए उपलब्ध थी। 1 अक्टूबर से 15 जून तक के नौ महीनों के दौरान, 9 लाख टन चीनी बेची गई है और 11,62,000 टन चीनी चीनी गोदामों में पड़ी है।

अत्यधिक और अधिशेष चीनी उत्पादन के कारण चीनी मिलों को काफी नुकसान उठाना पड रहा है, इस नुकसान को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने कुछ उपाय किए हैं। जिसमे चीनी की न्यूनतम बिक्री किंमत (एमएसपी) 3100 रुपये प्रति क्विंटल की गई। किसानों के भुगतान के लिए सॉफ्ट लोन दिया गया।

2019- 2020 सीज़न पर नजरे…

चीनी मिलों के पास पर्याप्त चीनी है। सूखे के कारण इस मौसम में आनेवाले सीजन मे कम गन्ना उपलब्ध होगा, जिसके कारण चीनी का उत्पादन प्रभावित होगा। जिससे चीनी मिलों को आने वाले दिनों में चीनी को ज्यादा दाम मिल सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here