महाराष्ट्र में 125 चीनी मिलों को मिला पेराई लाइसेंस; 15 मिलों द्वारा संचालन शुरू

276

पुणे: महाराष्ट्र में चीनी मिलों ने राज्य के राज्यपाल बीएस कोश्यारी से अनुमति मिलने के बाद आधिकारिक तौर पर गन्ना पेराई सीजन शुरू कर दिया है। राज्यपाल ने 22 नवंबर को आधिकारिक रूप से सीजन शुरू करने की अनुमति दी थी। लेकिन चीनी मिलें बहुत ही धीमी गति से गन्ने की पेराई शुरू कर रही हैं।

ChiniMandi.com के साथ बात करते हुए, महाराष्ट्र के चीनी आयुक्त शेखर गायकवाड़ ने कहा, “चीनी सीजन 2019-2020 के लिए 162 मिलों ने पेराई लाइसेंस के लिए आवेदन किया था। अब तक, 125 मिलों को क्रशिंग लाइसेंस जारी किए गए हैं। 15 चीनी मिलों ने अपना पेराई कार्य शुरू कर दिया हैं।”

आपको बता दे, चीनी सीजन 2018-2019 में महाराष्ट्र में कुल 195 चीनी मिलों ने पेराई में भाग लिया था और 951.79 लाख टन गन्ने की पेराई करके 11.26 प्रतिशत की रिकवरी दर के हीसाब से 107.19 लाख टन चीनी का उत्पादन किया था। इस सीजन में, महाराष्ट्र में चीनी का उत्पादन कम होने की संभावना है क्योंकि राज्य बाढ़ और सूखे से प्रभावित हुआ है।

कोल्हापुर और सांगली क्षेत्र की अधिकांश चीनी मिलों ने अभी तक पेराई कार्य शुरू नहीं किया है क्योंकि किसान संगठन स्वाभिमानी शेतकारी संगठन (SSS) ने उन्हें चेतावनी दी है कि गन्ना मूल्य निर्धारण पर अंतिम निर्णय आने तक गन्ना पेराई शुरू न करें। संगठन एक किस्त में उचित और पारिश्रमिक मूल्य (FRP) के भुगतान के साथ गन्ने के प्रति टन पर 200 रुपये मिले इस मांग पर अड़ा हुआ है। वही दूसरी ओर चीनी मिलें दावा कर रही है की उनकी मांग को पूरा करना मुश्किल है क्यूंकि उद्योग चीनी अधिशेष और आर्थिक समस्या से जूझ रहा है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here