देश में जानलेवा बारिश और बाढ़ से 1874 लोग मारे गए; 46 लापता

196

भारी बारिश ने चारो ओर तबाही मचा राखी है और इससे संपत्ति सहित जान को भी बहुत बड़ा नुक्सान हुआ है।गृह मंत्रालय के अधिकारियों के मुताबिक, देशभर में बारिश और बाढ़ के कारण 1,874 लोगों की मौत हो गई, जबकि अन्य 46 के लापता होने की सूचना है, जब कि 22 राज्यों में 25 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए है।

महाराष्ट्र में सबसे अधिक 382 व्यक्तियों की मृत्यु हुई, इसके बाद पश्चिम बंगाल में बारिश, बाढ़ और भूस्खलन में 227 मौतें हुईं, जिससे देश में 357 जिले प्रभावित हुए है।

अधिकारियों के अनुसार, 738 लोग घायल हुए और लगभग 20,000 जानवर मारे गए। भारी बारिश और बाढ़ ने 1.09 लाख घरों को पूरी तरह से क्षतिग्रस्त कर दिया, आंशिक रूप से 2.05 लाख घरों को नुकसान पहुंचाया और 14.14 लाख हेक्टेयर फसलों को नष्ट कर दिया है।

हालांकि भारत के कुछ हिस्सों में मानसून सक्रिय है, लेकिन मौसम आधिकारिक तौर पर 30 सितंबर को समाप्त हो गया। चार महीने की अवधि के दौरान, भारत में मौसम विभाग के अनुसार, 1994 के बाद से भारत में सबसे अधिक बारिश दर्ज की गई।

महाराष्ट्र में, जहां 22 जिले बाढ़ की चपेट में आ गए, 382 लोगों की मौत हो गई, 369 लोग घायल हो गए और 7.19 लाख लोग 305 राहत शिविरों में शरण लेने को मजबूर हुए। पश्चिम बंगाल में 227 लोगों ने अपनी जान गंवाई। बिहार में, जो इस समय बाढ़ की चपेट में है, 161 लोगों की जान चली गई है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here