2018-19 चीनी वर्ष में पेट्रोल के साथ इथेनॉल मिश्रण होगा दोगुना : पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान

539

नई दिल्ली : चीनी मंडी पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने शुक्रवार को कहा कि, पेट्रोलियम के साथ इथेनॉल मिश्रण मौजूदा सीजन में 8 फीसदी तक पहुंचने की संभावना है, क्योंकि तेल विपणन कंपनियों द्वारा बेहतर कीमत की पेशकश की जा रही है। मंत्री ने इथेनॉल क्षमता का विस्तार करने के लिए मिलों को अतिरिक्त सॉफ्ट लोन का भी आश्वासन दिया।

चीनी उद्योग निकाय आईएसएमए (इस्मा) की 84 वीं वार्षिक आम बैठक को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि, सरकार ने पिछले चार वर्षों में 1 लाख करोड़ रुपये के क्षेत्र में “प्रतिमान बदलाव” लाने के लिए कई कदम उठाए हैं। प्रधान ने कहा, पेट्रोल के साथ इथेनॉल का मिश्रण पिछले चार वर्षों में 1-1.5 प्रतिशत से 4 प्रतिशत तक पहुंच गया है। 2018-19 चीनी वर्ष (अक्टूबर-सितंबर) में, मिश्रण स्तर 7-8 फीसदी तक पहुंच जाएगा।

आयात ऊर्जा के लिए 8-10 लाख करोड़ रुपये की विदेशी मुद्रा खर्च…

मंत्री ने कहा कि, हालांकि इथेनॉल खरीददारी मूल्य में बढ़ोतरी के चलते तेल विपणन कंपनियों के लिए इथेनॉल खरीदना महंगा है, सरकार ने किसानों के कल्याण के लिए इथेनॉल उत्पादन को बढ़ावा देने के साथ-साथ हमारी ऊर्जा आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए समग्र दृष्टिकोण लिया है। प्रधान ने कहा कि, सरकार कच्चे तेल, एलएनजी और अन्य उत्पादों को आयात करके ऊर्जा मांग को पूरा करने के लिए 8-10 लाख करोड़ रुपये की विदेशी मुद्रा खर्च करती है।

इथेनॉल क्षमता बढ़ाने के लिए चीनी मिलों को सॉफ्ट लोन प्रदान…

उन्होंने कहा कि, सरकार ने इथेनॉल क्षमता बढ़ाने के लिए आवेदन के पहले समूह को सॉफ्ट लोन प्रदान किए हैं और यह दूसरे समूह के लिए ऋण मंजूर करने के लिए प्रतिबद्ध है। जून में, सरकार ने अतिरिक्त गन्ना को अवशोषित करने के लिए इथेनॉल उत्पादन क्षमता के निर्माण के लिए 4,440 करोड़ रुपये के सॉफ्ट लोन को मंजूरी दी। इसमें पांच साल की अवधि में 1,332 करोड़ रुपये का ब्याज सबवेंशन होगा, जिसमें एक वर्ष की अधिस्थगन अवधि भी शामिल है।

उद्योग के सूत्रों के अनुसार, सरकार दूसरे दौर में लगभग 1,800 करोड़ रुपये की ब्याज सब्सिडी प्रदान कर सकती है और यह इस सॉफ्ट लोन कार्यक्रम में भाग लेने के लिए स्टैंडअलोन गुड़-आधारित डिस्टिलरी को भी अनुमति दे सकती है। बाद में सितंबर में, सरकार ने एक 25 से अधिक प्रतिशत वृद्धि प्रति गन्ना रस से सीधे उत्पादन इथेनॉल की कीमत में बोली अधिशेष चीनी उत्पादन में कटौती करने और तेल के आयात को कम करने में पेट्रोल में सम्मिश्रण के लिए मंजूरी दे दी।

सरकार द्वारा 2003 में पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर कार्यक्रम ईबीपी लॉन्च…

बाद में सितंबर में, सरकार ने एक 25 से अधिक प्रतिशत वृद्धि प्रति गन्ना रस से सीधे उत्पादन इथेनॉल की कीमत में बोली अधिशेष चीनी उत्पादन में कटौती करने और तेल के आयात को कम करने में पेट्रोल में सम्मिश्रण के लिए मंजूरी दे दी। सरकार ने 2003 में पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर कार्यक्रम ईबीपी लॉन्च किया था, जिसे वैकल्पिक रूप से वैकल्पिक और पर्यावरण के अनुकूल ईंधन के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए 21 राज्यों और चार केंद्र शासित प्रदेशों तक बढ़ा दिया गया था।

पेट्रोल में इथेनॉल के 10 प्रतिशत मिश्रण का लक्ष्य कभी नहीं मिला…

लेकिन पेट्रोल में इथेनॉल के 10 प्रतिशत मिश्रण का लक्ष्य कभी नहीं मिला था। 2014 से, सरकार ने इथेनॉल के लिए एक प्रशासित मूल्य अधिसूचित किया। इस कदम ने पिछले चार वर्षों के दौरान इथेनॉल की आपूर्ति में काफी सुधार किया है। सार्वजनिक क्षेत्र के ‘ओएमसी’द्वारा प्राप्त इथेनॉल की मात्रा इथेनॉल आपूर्ति वर्ष 2013-14 में 387 लीटर से बढ़कर 2017-18 में अनुमानित 150 करोड़ लीटर हो गई है।

…तो चीनी मिलें सरकार से कोई फंड नहीं मांगेगी : गोयल

इससे पहले, ‘इस्मा’ के अध्यक्ष गौरव गोयल ने कहा कि, 2018-19 में इथेनॉल मिश्रण स्तर 8 प्रतिशत तक पहुंच जाएगा क्योंकि ‘ओएमसी’ से 260 करोड़ लीटर प्राप्त किए गए हैं। 10 प्रतिशत मिश्रण के लिए, 330 करोड़ लीटर इथेनॉल की आवश्यकता है। गोयल ने विश्वास व्यक्त किया कि मिश्रण स्तर 2020 तक 10 प्रतिशत और 2022 तक 20 प्रतिशत तक पहुंच जाएगा। इस्मा अध्यक्ष ने मांग की कि सरकार को इस क्षेत्र के लिए दीर्घकालिक समाधान के रूप में गन्ना की कीमत को चीनी दरों में जोड़ना चाहिए। गोयल ने कहा कि, अगर ऐसा होता है, तो कोई गन्ना बकाया नहीं होगा और चीनी मिलें सरकार से कोई फंड नहीं मांगेगी।

उन्होंने कहा कि चालू विपणन वर्ष में चीनी उत्पादन 31.5 मिलियन टन हो सकता है, जो पिछले वर्ष 32.5 मिलियन टन था। वार्षिक घरेलू मांग 26 मिलियन टन है। उद्घाटन स्टॉक 1 अक्टूबर को 10.7 मिलियन टन था। गोयल ने कहा कि, मिलों ने 2018-19 के लिए सरकार द्वारा निर्धारित 5 मिलियन टन कोटा में से 1 मिलियन टन चीनी निर्यात करने का अनुबंध किया है। उन्होंने मिलों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की सिफारिश की जो चीनी निर्यात नहीं करते हैं।

SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here