2019 भी दुनियाभर के चीनी उद्योग के लिए साबित होगा संघर्षपूर्ण साल….

652

चीनी कीमतों में भारी गिरावट के साथ 2018 का अंत हो रहा है, कीमतों में गिरावट से अगला साल चीनी उद्योग के लिए और भी बदतर हो सकता है।

नई दिल्ली / न्यू यॉर्क : चीनी मंडी

वैश्विक चीनी उत्पादन में बढ़ोतरी से आपूर्ति बढ़ने के चलते चीनी फ्यूचर्स ने इस साल 17 फीसदी की गिरावट दर्ज की है, जो अभीतक की दूसरी सबसे बड़ी सीधी वार्षिक हानि है। एक चीज जिसने मार्ग को और भी गहरा होने से बचाया: वो है दुनिया का सबसे बडा चीनी उत्पादक और निर्यातक ब्राजील ने चीनी की जगह इस साल इथेनॉल उत्पादन को बढ़ावा दिया, अगर ब्राजील भी चीनी उत्पादन करता, तो स्थिती बद से बदतर हो सकती थी। उच्च पेट्रोल की कीमतों के चलते ब्राजील के चीनी उद्योग ने चीनी अधिशेष की समस्या से बचने के लिए इथेनॉल बनाने का पक्ष लिया।

इथेनॉल की कीमतों में गिरावट चीनी उद्योग के लिए ‘रेड सिग्नल’

ब्राजील में अधिकांश कारें ऐसी हैं जो या तो गैसोलीन या इथेनॉल पर चलती हैं। परंपरागत रूप से, उपभोक्ता वैकल्पिक ईंधन का चयन करते हैं, जब यह गैसोलीन की कीमत के 70 प्रतिशत से कम है क्योंकि यह प्रति लिटर कम ऊर्जा पैदा करता है। अब कच्चे तेल की कीमतों में कमी आ रही है, पारंपरिक ईंधन की खपत के दृष्टिकोण में सुधार हो रहा है, और परिणामस्वरूप इथेनॉल की कीमतें गिर रही हैं। साओ पाउलो राज्य के रिबेराओ प्रेटो में स्थित परामर्श फर्म एफजीए के आंकड़ों के मुताबिक, 2019 में, गन्ना मिलर्स कीमतों में गिरावट के चलते जैव ईंधन के बजाय फसल को चीनी उत्पादन में बदलकर 13 प्रतिशत अधिक करने के लिए खड़े हैं। इससे दुनियाभर के चीनी उद्योग को कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है ।

अधिशेष चीनी की समस्या हो सकती है और भी गम्भीर…

इथेनॉल कीमतों में गिरावट के चलते ब्राजील के मिलर्स अगले सिझन में चीनी उत्पादन में बढ़ोतरी कर सकते हैं। अप्रैल में शुरू होने वाले 2019-20 सत्र में अतिरिक्त 2 मिलियन मीट्रिक टन चीनी का उत्पादन करने के लिए मिलर्स को अतिरिक्त आकर्षक बनाने की संभावना अधिक होगी। यह पूर्वानुमान खास तौर पर ब्राजील के सेंटर-साउथ में उत्पादकों के लिए है। आने वाले सीजन में केंद्र-दक्षिण 28.8 मिलियन टन उत्पादन कर सकता है, जिसमे 2.3 मिलियन टन का उछाल देखा जा सकता है।

अगस्त में चीनी फ्यूचर्स 10 साल के सबसे निचले स्तर पर…

ब्राजील का चीनी उत्पादन का अनुमान इस वर्ष से चीनी की गिरावट जारी रखेगा। यूरोपियन यूनियन से थाईलैंड तक बम्पर फसलों द्वारा समर्थित रिकॉर्ड अधिशेष के दृष्टिकोण के दौरान अगस्त में फ्यूचर्स ने 9.91 सेंट प्रति पाउंड के 10 साल के सबसे निचले स्तर को छुआ। बाजार में भारत के निर्यात के आकार के बारे में एक संक्षिप्त राहत मिली और ब्राजील में इथेनॉल की मांग बढ़ी। तब तेल ने अपनी गिरावट शुरू की, जैव ईंधन के दृष्टिकोण को काट दिया और चीनी को भी इसके साथ खींच लिया। निवेशक भी अधिक गिरावट पर सट्टेबाजी कर रहे हैं। शुक्रवार को प्रकाशित यू.एस. कमोडिटी फ्यूचर्स ट्रेडिंग कमिशन के आंकड़ों के मुताबिक, हेज फंडों ने 11 दिसंबर तक 5,810 वायदा और विकल्पों की चीनी शुद्ध-छोटी स्थिति आयोजित की। होल्डिंग, जो कीमतों में गिरावट और गिरावट पर मजदूरों के बीच अंतर को मापती है, तीन सीधी हफ्तों के लिए ऋणात्मक रही है।

मुद्रा में उतार-चढ़ाव अस्थिरता को और बढ़ा सकता है…

2019 में चीनी के लिए अभी भी सवाल बढ़ रहे हैं। मुद्रा में उतार-चढ़ाव अस्थिरता को बढ़ा सकता है। चीनी उत्पादन का दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक भारत इस साल चीनी उत्पादन में चोट पहुंच सकता है । यूरोपीय संघ में, कम चीनी की कीमतें बीट किसानों को गेहूं फसलों में बदलने के लिए प्रेरित कर सकती हैं। लेकिन विश्लेषकों और व्यापारियों के बीच सर्वसम्मति बनी हुई है की, कच्चे तेल की कीमत चीनी को ऊपर या नीचे खींच सकती है ।

SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here