गन्ना कटाई मजदूर ‘क्राउड फंडिंग’ के भरोसे लड़ेगा चुनाव

203

औरंगाबाद: चीनी मंडी

परभनी जिले के जिंतुर से विधानसभा सीट से चुनाव के लिए 13 उम्मीदवारों में से, गन्ना कटाई करने वाले अंकुश राठौड़ भी अपना राजनीतिक भविष्य आजमा रहा हैं, उनके पास न तो कोई राजनीतिक पृष्ठभूमि है और न ही पर्याप्त पैसा है। चुनाव खर्चों के लिए क्राउड फंडिंग करने वाले राठौड़ जीत के प्रति काफ़ी आश्वस्त हैं। राठौड़ ने कहा की, मेरा उद्देश्य मराठवाड़ा के 10 लाख गन्ना हार्वेस्टर की बात, समस्याओं को दुनिया के सामने लाना है। हमारा समुदाय एक दयनीय सामाजिक-आर्थिक जीवन व्यतीत कर रहा है। हमारे देश में जंगली जानवरों के संरक्षण के लिए भी कानून हैं, लेकिन हमारे जैसे इंसानों के लिए नहीं हैं। राठौड़ ने पश्चिमी महाराष्ट्र के विभिन्न हिस्सों में लगभग एक दशक तक गन्ना कटाई मजदूर के रूप में काम किया और सीपीआई के उम्मीदवार के रूप में जिंतुर से विधानसभा चुनाव लड़ने का फैसला किया।

राठौड़ कहते हैं कि, गन्ने की कटाई मौसमी रोज़गार है जिसमें पूरी तरह से नौकरी की सुरक्षा नहीं है। काम करने की स्थिति खराब और जोखिम भरी है। सांप के काटने से लेकर स्वास्थ्य के मुद्दों तक, हम काम के दौरान हर तरह के खतरे से अवगत हैं। इन सभी कठिनाइयों के बावजूद, गन्ना हार्वेस्टर मामूली रकम कमा पाते हैं। गन्ना कटाई मजदूर को एक टन गन्ने की कटाई के बाद 150 रुपये से 280 रुपये मिलता है। सुबह से रात तक हमारा काम लगभग 14 घंटे तक रहता है। हमें दिया गया भुगतान महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम के तहत दी गई पेशकश से भी बहुत कम है।

राठौड़, जिनके दो बच्चे, पत्नी और माँ हैं, ने कहा कि, गन्ना कटाई मजदूरों के बच्चे शैक्षिक अधिकारों से वंचित हैं। शैक्षणिक नुकसान एक दुष्चक्र पैदा करता है, क्योंकि हमारे बच्चे हमारे जैसे मजदूर बन जाते हैं। राठौड़ का मुकाबला भाजपा के मेघना साकोर-बोरदीकर के खिलाफ है। सीपीआई के वरिष्ठ नेता राजन क्षीरसागर ने चुनावों के दौरान स्थापित राजनीतिक दलों पर केवल वोट बैंक के रूप में गन्ना मजदूरों का उपयोग करने का आरोप लगाया।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here