महाराष्ट्र: 38 चीनी मिलों द्वारा 100 प्रतिशत गन्ना भुगतान

336

पुणे : चीनी मंडी

पिछले सीजन की तरह इस सीजन में भी चीनी मिलों द्वारा एफआरपी भुगतान में देरी हो रही है। रिपोर्ट के मुताबिक, 31 दिसंबर, 2019 तक, गन्ना खरीद के लिए उचित और पारिश्रमिक मूल्य (एफआरपी) के अनुसार किसानों को 1,771.82 करोड़ रुपये का भुगतान करना था, लेकिन मिलों ने अब तक केवल 1,037.13 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया है, और 734.69 करोड़ रुपये का बकाया है। महाराष्ट्र में चीनी मिलों द्वारा गन्ना किसानों को बकाया भुगतान करने में देरी होती नजर आ रही है, 113 परिचालन मिलों में से केवल 38 मिलों ने 100 प्रतिशत एफआरपी का भुगतान किया है।

राज्यपाल ने 22 नवंबर को आधिकारिक रूप से सीजन शुरू करने की अनुमति दी थी। महाराष्ट्र का गन्ना पेराई सत्र देर से शुरू हुआ था, ज्यादातर मिलों ने दिसंबर के पहले सप्ताह अपना परिचालन शुरू कर दिया था। मिल्स ने पैसों की कमी की शिकायत की है, जिससे किसानों को एफआरपी का भुगतान करने की उनकी क्षमता में बाधा उत्पन्न हुई है। 26 मिलों ने कहा कि, उनके खराब वित्तीय स्वास्थ्य के कारण महाराष्ट्र स्टेट कोऑपरेटिव बैंक से वित्त जुटाने में मुश्किल हुई है।

सांगली और कोल्हापुर में मिलों को भारी बारिश और बाढ़ के कारण नुकसान हुआ है, मराठवाड़ा और सोलापुर में सूखे के कारण नुकसान हुआ है। पेराई सत्र की शुरुआत के बाद से, मिलों ने अपनी अनिश्चित वित्तीय स्थिति का हवाला देते हुए शत प्रतिशत एफआरपी का भुगतान करने में असमर्थता जताई है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here