कर्नाटक में अगस्त में हुई कम बारिश

162

बेंगलुरू: कर्नाटक में जून और जुलाई में अधिक बारिश होने के बाद इस महीने बहुत कम बारिश हुई है। लंबे समय तक कमजोर मॉनसून से खरीफ सीजन की फसल उत्पादन प्रभावित होने का खतरा है, जिससे कोरोना महामारी और मौसम के उतार-चढ़ाव से प्रभावित किसानों की परेशानी और बढ़ सकती है। जून और जुलाई में जिन क्षेत्रों में भारी बारिश हुई, उनमें 86 तालुकों को बाढ़ प्रभावित घोषित किया गया है। नियमित मानसून में, 1 अगस्त से 18 अगस्त के बीच 144 मिमी बारिश होने की उम्मीद होती है। इस बार, राज्य में केवल 77 मिमी बारिश हुई है, और बारिश की कमी अब चिंता पैदा कर रही है।

टाइम्स ऑफ इंडिया में प्रकाशित खबर के मुताबिक, गांधी कृषि विज्ञान केंद्र के कृषि मौसम विज्ञानी एच एस शिवरामु ने कहा, फसलें अंकुर के चरण में पहुंच गई हैं, और अब बारिश की जरूरत है। यदि शुष्क स्थिति एक सप्ताह या 10 दिनों तक जारी रहती है, तो फसल प्रभावित होगी। भारत मौसम विज्ञान विभाग, बेंगलुरु के निदेशक सीएस पाटिल ने कहा कि, वर्तमान मौसम पूर्वानुमान उत्साहजनक नहीं है, क्योंकि अगले पांच दिनों तक बारिश नहीं होगी। लेकिन वह उम्मीद कर रहे हैं कि, उसके बाद समुद्र के ऊपर कम दबाव का क्षेत्र बनेगा।

इस बीच, राज्य सरकार ने पिछले सप्ताह 13 जिलों के 61 तालुकों को बाढ़ प्रभावित घोषित किया। कई अन्य प्रभावित तालुकों के प्रतिनिधियों ने उन क्षेत्रों को सूची से बाहर किए जाने पर विरोध किया। चिक्कमगलुरु जिले में मुदिगेरे का प्रतिनिधित्व करने वाले भाजपा विधायक एमपी कुमारस्वामी ने विधान सौध के परिसर में धरना दिया। मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने मंगलवार को कुमारस्वामी से बात की, जिसके बाद राजस्व विभाग ने मुदिगेरे सहित 86 तालुकों की एक संशोधित सूची जारी की।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here