महाराष्ट्र की 55 चीनी मिलें मुश्किल में

802

मुंबई : चीनी मंडी

महाराष्ट्र में लगभग 55 चीनी मिलों को 2019-20 के चीनी सत्र में पेराई शुरू करना मुश्किल हो सकता है, क्योंकि महाराष्ट्र राज्य सहकारी बैंक (MSC) और जिला सहकारी बैंकों द्वारा मिलों का नेगेटिव नेट वर्थ और नेट डिस्पोजेबल रिसोर्सेज (NDR) के कारण लोन देने से इनकार कर दिया हैं।

मिलों की वित्तीय स्थिति की समीक्षा करने के लिए महाराष्ट्र के चीनी आयुक्त शेखर गायकवाड़ द्वारा बुलाई गई बैठक में, MSC बैंक ने बताया है कि, बैंक की चीनी उद्योग को क्षेत्रीय जोखिम सीमा समाप्त हो गई है और बैंक मिलों को प्री-सीजन लोन जारी करने की स्थिति में नहीं है। आयुक्त ने पुष्टि की कि MSC बैंक के अधिकारियों ने मिलों को ऋण देने पर चिंता जताई थी क्योंकि चीनी क्षेत्र में उनकी एक्सपोज़र सीमा पहले ही समाप्त हो गई थी। उन्होंने कहा कि, ये 55 मिलें ऋण के लिए सार्वजनिक क्षेत्र के अन्य बैंकों से संपर्क कर सकती हैं, उन्होंने कहा कि नाबार्ड ने यह भी कहा है कि, जब तक कोई सरकारी गारंटी नहीं दी जाती है तब तक इन मिलों को वित्त पोषित नहीं किया जा सकता है।

चीनी मिल मालिकों द्वारा उठाए गए कुछ अन्य मुद्दों में, चीनी उद्योग के लिए नाबार्ड द्वारा क्षेत्रीय जोखिम में वृद्धि, ऋणों का पुनर्गठन, मिलों के लिए सरकारी गारंटी। आयुक्त ने कहा कि, इन मुद्दों पर 27 नवंबर को राज्यपाल के साथ चर्चा करने का प्रस्ताव था, लेकिन अब राज्य में राजनीतिक घटनाक्रम के कारण बैठक स्थगित कर दी गई है।

इस साल की शुरुआत में, महाराष्ट्र स्टेट कोऑपरेटिव शुगर फैक्ट्रीज़ फेडरेशन (MSCFF) ने RBI और नाबार्ड से 10,540 करोड़ रुपये के सॉफ्ट लोन के लिए स्कीम के उपयोग के लिए दिशा-निर्देशों पर स्पष्टता मांगी थी। केंद्र ने 2019-20 के चीनी सत्र में उचित और पारिश्रमिक मूल्य (FRP) के भुगतान के लिए 10,540 करोड़ रुपये के सॉफ्ट लोन की घोषणा की थी।

चीनी मिलों को दी गयी सॉफ्ट लोन योजना की रफ्तार धीमी

महाराष्ट्र की 55 चीनी मिलें मुश्किल में यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here