बिक्री कोटे का उल्लंघन : छह चीनी मिलों पर कार्रवाई की संभावना

 

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

मुंबई: चीनी मंडी

चीनी आयुक्त कार्यालय के अनुसार, राज्य की छह चीनी मिलों ने अपने निर्धारित बिक्री कोटे का उल्लंघन किया है। चीनी आयुक्त कार्यालय द्वारा बिक्री ऑडिट का सामना करने वाली 10 मिलों में से 6 मिलों को दंडात्मक कार्रवाई का सामना करना पड़ सकता हैं।

पिछले साल, अधिशेष चीनी की समस्या को देखते हुए केंद्र सरकार ने चीनी क्षेत्र में रिलीज तंत्र को लागू किया था और चीनी की आपूर्ति और कीमतों को स्थिर रखने के लिए प्रत्येक मिल को मासिक बिक्री कोटा तय किया था। केंद्र सरकार ने चीनी के न्यूनतम बिक्री मूल्य (MSP) भी 2,900 रूपये से बढ़ाकर 3,100 रुपये प्रति क्विंटल तय किया था और मिलों को आदेश का पालन करने का निर्देश दिया था।

हालांकि, चीनी आयुक्त कार्यालय को गन्ना उत्पादकों को उचित और पारिश्रमिक मूल्य (FRP) के भुगतान को लेकर धन जुटाने के लिए, MSP के नीचे अपना स्टॉक बेचने वाली मिलों के बारे में कई शिकायतें मिली थी। ऐसी शिकायतों पर कार्रवाई करते हुए, चीनी आयुक्त शेखर गायकवाड़ ने कुछ मिलों की बिक्री रिपोर्ट का ऑडिट करने का आदेश दिया था, जिन पर तय कोटा से ज्यादा चीनी बिक्री करने का संदेह था।

ऑडिट के दौरान, छह मिलों द्वारा उनको दिए गए कोटा का उल्लंघन और निर्धारित स्टॉक से अधिक चीनी बेचने का मामला सामने आया था। चीनी आयुक्त कार्यालय के एक अधिकारी ने कहा, ऐसी मिलें आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत दंडात्मक कार्रवाई का सामना कर सकती हैं। इस बीच, राज्य भर की मिलें कम बिक्री के कारण तरलता की कमी का सामना कर रही हैं। फरवरी के अंत तक, महाराष्ट्र में 112.74 लाख टन चीनी स्टॉक था।

पेराई सत्र के अंत तक, महाराष्ट्र में पिछले साल के चीनी उत्पादन के आंकड़े को पार करने, या कम से कम बराबर होने की उम्मीद है। पिछले साल, महाराष्ट्र ने 107 लाख टन चीनी का उत्पादन किया है, जो एक सर्वकालिक उच्च उत्पादन आंकड़ा है। बुधवार तक, 195 चीनी मिलों में हैं, 169 ने गन्ने की पेराई बंद कर दी है। राज्य ने 946.60 लाख टन गन्ने की पेराई के साथ 106.37 लाख टन चीनी का उत्पादन हुआ है।

डाउनलोड करे चीनीमंडी न्यूज ऐप:  http://bit.ly/ChiniMandiApp

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here