युपी में गन्ना बकाया राशि 9,500 करोड़ रूपये

329

लखनऊ : चीनी मंडी

उत्तर प्रदेश में चीनी सीजन 2018-19 समाप्त होने के लगभग एक महीने बाद, मिलों ने अपने गन्ने का केवल 72% बकाया भुगतान किया है, और किसानों का अभी भी 9,500 करोड़ रुपये का बकाया है। जिसमें निजी स्वामित्व वाली चीनी मिलों में से, यदु समूह, सिम्भोली शुगर्स, मोदी समूह, बजाज समूह और मवाना शुगर्स के पास लगभग 5,000 करोड़ रुपये का बकाया है। पिछले साल इसी तारीख को प्रदेश में गन्ना बकाया 12,075 करोड़ रुपये था। कुल बकाया में से, निजी मिलों का लगभग 9,000 करोड़ रुपये का बकाया है, जबकि तीन यूपी चीनी निगम और 24 चीनी सहकारी मिलों का शेष 500 करोड़ रुपये का बकाया है।

14 मिलों को चलाने वाला बजाज समूह का सबसे अधिक लगभग 3,146 करोड़ रुपये बकाया है। इसके बाद सिम्भोली ग्रुप 624 करोड़ रुपये, मोदी ग्रुप 492 करोड़ रुपये, मवाना ग्रुप 468 करोड़ रुपये और यदु ग्रुप 144 करोड़ रुपये के साथ खड़े है। प्रतिशत-वार, यदु समूह ने अपने कुल भुगतान का केवल 11.95% का भुगतान किया, जबकि सिम्भोली शुगर्स ने 22.09%, मोदी समूह ने 26.45%, बजाज समूह ने 37.81% और मवाना शुगर्स ने 46.7%% का भुगतान किया।

दूसरी ओर, कुछ अन्य समूहों ने अपने कुल बकाया का 90% से अधिक का भुगतान किया है। उनमें डालमिया समूह के स्वामित्व वाली मिलें शामिल हैं, जिन्होंने 96% से अधिक का भुगतान किया है, द्वारिकेश और डीएससीएल समूहों ने 95%, बलरामपुर चीनी मिलों ने 91%, बिड़ला समूह ने 85%, धामपुर और त्रिवेणी समूहों द्वारा लगभग 83% भुगतान किया है। सीजन के दौरान संचालित होने वाली कुल 119 मिलों में से 92 निजी क्षेत्र की हैं, जबकि 24 राज्य सहकारी क्षेत्र की हैं, जबकि तीन उत्तर प्रदेश चीनी निगम की हैं। पिछले साल इसी तारीख को गन्ना बकाया 12,075 करोड़ रुपये था।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here