चीनी मिलों के मालिकों को मिली कड़ी चेतावनी: उनपर दर्ज हो सकता है FIR

382

बिजनौर: बिजनौर में गन्ना किसानों के आंदोलन की मांगों पर संज्ञान लेते हुए सहायक चीनी आयुक्त ने जिला के छह चीनी मिलों को सात दिनों के भीतर अपना बकाया चुकाने के लिए नोटिस जारी किया है, जिसमें विफल रहने पर मालिकों और वरिष्ठ प्रबंधन के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाएगी। सरकार के अनुसार, मिलों द्वारा किसानों को लगभग 500 करोड़ रुपये का बकाया है। द्वारिकेश समूह ने पिछले साल का बकाया पहले ही चूका दिया है, जबकि नजीबाबाद के सहकारी मिल ने अपने बकाया का लगभग 98% भुगतान किया है। और बजाज समूह की बिलई, बिजनौर और चड्ढा के चांदपुर समूह, उत्तम समूह के बरकतपुर, धामपुर और स्योहारा गन्ना बकाया भुगतान में पिछड़ रहे हैं।

मिलों के इस उदासीन रवैये के कारण गन्ना उत्पादक, अपने बच्चों की स्कूल फीस का भुगतान नहीं कर पा रहे हैं, और ना ही दैनिक खर्च चला पा रहे हैं। राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन (RKMS) के बैनर तले, अध्यक्ष वी एम सिंह के राष्ट्रीय नेतृत्व में किसान विरोध प्रदर्शन करते हुए, पिछले कुछ दिनों से वे धरने पर बैठे हैं। आजाद किसान यूनियन के साथ 4 सितंबर से अपना विरोध प्रदर्शन जारी है और अन्य यूनियनें भी इसमें शामिल हुई हैं।

किसान संघठनों के विरोध प्रदर्शन के दबाव में झुकते हुए प्रशासन कार्रवाई में जुट गया। जिलाधिकारी रमाकांत पांडे से निर्देश प्राप्त करने के बाद, सहायक चीनी आयुक्त देवेंद्र मौर्य ने मिल मालिकों और छह चीनी मिलों के वरिष्ठ प्रबंधन को नोटिस जारी किए। अगर मिल मालिक सात दिनों के भीतर बकाया राशि नहीं भुगतान कर पाते हैं, तो उनके खिलाफ मामले दर्ज किए जाएंगे।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here