किसान द्वारा गन्ना फसल जलाने की रिपोर्ट फरीदकोट जिला प्रशासन ने केंद्र को सौंपीं

1873

चंडीगढ़ : फरीदकोट प्रशासन ने केंद्र सरकार को रिपोर्ट सौंपी है, जिसमें जिले के सादिक गांव के एक किसान ने मांग न होने के कारण 2 एकड़ जमीन पर खड़ी गन्ने की फसल को जला दिया था। इस घटना के बाद केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय ने जिला प्रशासन से रिपोर्ट मांगी थी। लॉकडाउन के कारण जगतार सिंह अपनी फसल के लिए खरीदार खोजने में असमर्थ थे, और उन्होंने 30 जून को अपनी फसल को आग लगा दी थी। क्षेत्र में किसी भी चीनी मिल की अनुपस्थिति में, वे गन्ने को रस विक्रेताओं को बेचते थे। लेकिन लॉकडाउन के कारण पिछले तीन महीनों से रस विक्रेताओं का व्यवसाय भी बंद था, जिससे उनके पास कोई खरीदार नहीं था। खेत में खड़ा गन्ना जलाने के सिवा उसके पास कोई अन्य विकल्प नही था। इस घटना के बाद केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय ने जिला प्रशासन से रिपोर्ट मांगी थी। कृषि विभाग की सहायता से रिपोर्ट तैयार की गई थी और इसे केंद्रीय मंत्रालय को सौंप दिया गया। चूंकि धान का मौसम चरम पर था, इसलिए किसान धान बोने के लिए अपने खेत को साफ करना चाहते थे। अधिकारीयों ने कहा, वह खड़ी फसल नहीं बेच पा रहे थे।

कृषि विभाग द्वारा सहायता…

मुख्य कृषि अधिकारी हरनेक सिंह रोडे ने कहा कि, यह एक बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण घटना है कि एक किसान ने अपनी गन्ने की फसल को जला दिया क्योंकि वह फसल के लिए खरीदार खोजने में असफल रहा। जिला कृषि विभाग ने अपने खेतों में धान की फसल बोने के लिए किसान की सहायता करने का निर्णय लिया है। विभाग उसे धान की फसल, कीटनाशक और दवा मुफ्त में उपलब्ध कराएगा। कृषि विभाग की एक टीम ने गांव का दौरा किया और उसे हर तरह की सहायता का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा, ”इस क्षेत्र में कई अन्य किसान हैं जो गन्ना उगाते हैं, हमने प्रस्ताव दिया है कि सहकारी समितियों को पूरे जिले में छोटी गुड़ विनिर्माण इकाइयाँ स्थापित करने के लिए कहा जाए। राज्य में गुड़ की उच्च मांग है, इसलिए यह किसानों को अपनी उपज बेचने के लिए एक मंच प्रदान करेगा।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here