डाबर, पतंजलि और झंडू के शहद में ‘चीन के चीनी’ की मिलावट : सीएसई का आरोप

173

नई दिल्ली: सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट (सीएसई) के शोधकर्ताओं ने आरोप लगाया है की, डाबर, पतंजलि और झंडू सहित प्रमुख भारतीय ब्रांड चीन से संशोधित चीनी की मिलावट करके शहद बेच रहे हैं।इन आरोपों का जवाब देते हुए, डाबर, पतंजलि और झंडू के प्रवक्ताओं ने इस बात से इनकार किया कि उनके शहद उत्पादों में मिलावट की गई है और बताया कि वे भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) द्वारा निर्धारित नियामक आवश्यकताओं को पूरा करते हैं।

‘सीएसई’ की महानिदेशक सुनीता नारायण के अनुसार, सीएसई ने एक जांच शुरू की जब कोरोना महामारी के दौरान शहद की बिक्री में बढ़ोतरी के बावजूद उत्तर भारत में मधुमक्खी पालकों को मुनाफा कम हुआ था।नारायण ने एक बयान में कहा, हमने जांच अब तक जो कुछ भी पाया है, वह हमारे स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह है।सीएसई अध्ययन में पाया गया कि भारतीय बाजार में बेचे जा रहे शहद के लगभग सभी ब्रांडों में चीनी की चाशनी की मिलावट है।उन्होंने कहा की, यह बेहद चिंताजनक है, क्योंकि कोरोना महामारी के समय में स्वास्थ्य से और समझौता करेगा। हम जानते हैं कि आज कोरोना के कारण लोग अधिक शहद का सेवन कर रहे हैं।हमारे शोध में पाया गया है कि बाज़ार में बिकने वाले अधिकांश शहद में चीनी की चाशनी की मिलावट है। इसलिए, शहद के बजाय, लोग अधिक चीनी खा रहे हैं। सीएसई के अनुसार, शुरुआत में, मिठास बढ़ाने के लिए मकई, गन्ना, चावल और चुकंदर की शक्कर को शहद में मिलाया जाता था। इस तरह की मिलावट का पता सी 3 और सी 4 परीक्षणों में लगता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here