मैसूर: कृषि विभाग का गन्ना किसानों को मक्का उत्पादन के लिए भी प्रोत्साहन

99

मैसूर: मैसूर और चामराजनगर जिले में मक्का की खेती करने वाले किसान खुश है, क्योंकि इस साल कीमतों में अचानक वृद्धि हुई है और फसल काटने के लिए तैयार हैं। कृषि विभाग धान और गन्ना उत्पादकों को मक्का की ओर जाने के लिए भी प्रोत्साहित कर रहा है क्योंकि इससे उन्हें साल में तीन फसलें उगाने की अनुमति मिलेगी। गन्ना जैसी वार्षिक फसलों के विपरीत मक्का की खेती को पूरी फसल के लिए केवल साढ़े तीन महीने की आवश्यकता होती है। किसान निकटतम एपीएमसी बाजार में भी मक्का बेच सकते हैं और एमएसपी प्राप्त कर सकते हैं।

द टाइम्स ऑफ इंडिया में प्रकाशित खबर के मुताबिक, इस साल कीमत लगभग दोगुनी होकर 2,100 रुपये से 2,500 रुपये हो गई हैं। पिछले साल यह 1,200 रुपये प्रति क्विंटल था। मक्का की कीमतों में उछाल एमएसपी प्रति क्विंटल (1,920 रुपये) को भी पार कर गया है। मक्का के कीमतों में अचानक वृद्धि का श्रेय गेहूं की कीमतों में वृद्धि को दिया जाता है क्योंकि मक्का का उपयोग मवेशियों और पोल्ट्री फीड के उत्पादन के लिए गेहूं के विकल्प के रूप में किया जाता है। किसानों ने इस खरीफ सीजन में मैसूर में लगभग 12,000 हेक्टेयर और चामराजनगर में 4,200 हेक्टेयर भूमि पर मक्का की खेती की है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here