गन्ना पैदावार बढ़ाने के लिए शराब का इस्तेमाल…

4355

लखनऊ : चीनी मंडी

उत्तर प्रदेश में गन्ना फसल को लेकर एक चौकानेवाली बात सामने आयी है, कई किसान गन्ने की पैदावार बढ़ाने के लिए शराब और डिटर्जेंट का इस्तेमाल कर रहे है। हालांकि, कृषि विशेषज्ञों के अनुसार इन तथ्यों का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है, लेकिन फिर भी किसान धडल्ले से इस नई ‘तकनीक’ का इस्तेमाल कर रहे है।किसानों का मानना है की, शराब और डिटर्जेंट से गन्ने की फसल पर अच्छा प्रभाव पड़ता है। फसल में कीट नहीं लगने से पैदावार में बढ़ोतरी होती है। कुछ किसान महंगे कीटनाशकों के बजाय ऑक्सीटोसिन भी यूरिया में मिलाकर डाल रहे हैं। मेरठ देहात क्षेत्र इससे ज्यादा प्रभाव दिखाई दे रहा है।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है की, महंगे कीटनाशक खरीदना किसानों के लिए दिनोंदिन मुश्किल होता जा रहा है। गन्ने का भुगतान करने में चीनी मिलें विफ़ल रही हैं। किसानों को पाई पाई के लिए मोहताज होना पड़ रहा है, ऐसे में सस्ते कीटनाशक के रूप में किसान इन विकल्पों को अपना रहे हैं। कई किसानों ने दावा किया की, शराब और डिटर्जेंट के प्रयोग से कम समय में गन्ने की लंबाई बढ़ने से ज्यादा उत्पादन होने पर फायदा हुआ। वहीं, कृषि विभाग के अधिकारीयों ने किसानों के इन दावों को सिरेसे ख़ारिज किया है। उनका कहना है कि, गन्ने के ज्यादा उत्पादन में शराब की कोई भूमिका नहीं होती है। कृषि वैज्ञानिकों ने भी इस तरीके को पूरी तरह गलत बताया है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here