गन्ना विकास विभाग एवं जिला प्रशासन की सक्रियता ने गन्ने की फसल को टिड्डी दल से बचाया

294

लखनऊ: प्रदेश के आयुक्त, गन्ना एवं चीनी, श्री संजय आर. भूसरेड्डी ने बताया कि प्रदेश में गन्ने की फसल को टिड्डी दल से बचाने के लिये जिला प्रशासन तथा विभागीय अधिकारियों की सक्रियता के कारण गन्ने की फसल नुकसान से बच सकी। गन्ना विभाग एवं जिला प्रशासन के अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा लगातार गाँवों का भ्रमण किया गया तथा टिड्डी दल के आक्रमण को विफल करने हेतु प्रदेश के सभी गन्ना बहुल परिक्षेत्रों एवं जिलों में टिड्डी दल के नियंत्रण के लिए स्प्रे टैंकरों एवं कीटनाशकों की व्यवस्था की गयी। किसानों को सजग रहने तथा पर्याप्त सावधानियां बरतने के लिये भी जागरूक किया गया।

टिड्डी दल को रोकने के संबंध में गन्ना विभाग द्वारा किये गए उपायों पर जानकारी देते हुए श्री भूसरेड्डी ने बताया कि सहारनपुर परिक्षेत्र के जिलों में टिड्डी दल का आगमन नहीं हुआ फिर भी सम्भावित आगमन के दृष्टिगत सभी व्यवस्थाएं पूरी कर ली गयी, तथा 1,786 स्प्रे टैंकर कीटानशक के छिड़काव के लिए उपलब्ध हैं। मेरठ मण्डल के बुलंदशहर जिले में टिड्डियों का आगमन हुआ, इस मंडल में 196 टीमों को लगाया गया तथा 1,568 स्प्रे टैंकर तथा 4,000 लीटर से अधिक क्लोरोपायरीफॉस, इमिडाक्लोरोपीड कीटनाशक छिड़काव हेतु उपलब्ध है। मुरादाबाद मण्डल के रामपुर जिले में टिड्डी दल का आगमन हुआ जिसके दृष्टिगत 780 स्प्रे टैंकर तथा 16,976 लीटर क्लोरोपायरीफॉस उपलब्ध है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के इन सभी परिक्षेत्रों में टिड्डी दल की रोकथाम हेतु कृषकों को जागरुक करने के लिए पम्फ्लेट भी वितरित किये गये हैं।

उन्होंने यह भी बताया कि बरेली परिक्षेत्र में टिड्डी दल के रोकथाम हेतु 22 टीमें एवं 1,034 स्प्रे टैंकर लगाकर 150 हेक्टेयर में कृषि विभाग के सहयोग से कीटनाशक का स्प्रे कराया गया। लखनऊ परिक्षेत्र के लखीमपुर, सीतापुर, फर्रूखाबाद एवं हरदोई में 88 टीमें एवं 1,217 स्प्रे टैंकर के माध्यम से प्रवास स्थल के रूप में चयनित 314 हेक्टेयर क्षेत्रफल में कीटनाशकों का छिड़काव कर टिड्डियों को मारा गया। इसी प्रकार अयोध्या मण्डल के सुल्तानपुर, बाराबंकी, जौनपुर, गाजीपुर, वाराणसी व अम्बेडकर नगर में टिड्डी दल का आगमन होने पर 110 टीमों तथा 121 स्प्रे टैंकर के माध्यम से 278 हेक्टेयर क्षेत्रफल में कीटनाशकों का छिड़काव कृषि विभाग के सहयोग से कराया गया।

यह भी बताया कि देवीपाटन मण्डल में टिड्डी दल की रोकथाम हेतु 46 टीमें बनाकर 278 स्प्रे टैंकर के माध्यम से 452 हेक्टेयर क्षेत्रफल में कीटनाशक का छिड़काव किया गया। इसी प्रकार गोरखपुर मण्डल में गोरखपुर, बस्ती, महराजगंज एवं सिद्धार्थनगर जिलों में भी टिड्डी दल के आगमन पर 12 टीमों के माध्यम से 25 स्प्रे टैंकर लगाकर क्लोरोपायरीफॉस का छिड़काव कराया गया। देवरिया परिक्षेत्र में भी 62 टीमें गठित कर 39 स्प्रै टैंकरों के माध्यम से 289 हेक्टेयर क्षेत्रफल में कीटनाशकों का छिड़काव किया गया।

इस प्रकार पूरे प्रदेश में गन्ना विभाग द्वारा टिड्डी दल की रोकथाम हेतु जिला प्रशासन एवं कृषि विभाग के साथ समन्वय से 6,847 स्प्रे टैंकर टिड्डी दल की रोकथाम हेतु तैयार हैं। टिड्डी दल के आक्रमण को विफल करने के लिए गन्ना विकास विभाग, जिला प्रशासन एवं कृषि विभाग की 538 टीमें लगायी गयी हैं। 1,483 हेक्टेयर गन्ने की फसल के अतिरिक्त पॉपुलर, आम, युकेलिप्टस, चरई. सागौन आदि फसलों पर 1,349 लीटर से अधिक कीटनाशकों का छिड़काव किया गया है। गन्ना विभाग तथा जिला प्रशासन की सक्रियता के चलते प्रदेश के गन्ना बहुल जिलों में अभी तक गन्ने की फसल में टिड्डियों द्वारा किसी नुकसान की सूचना प्राप्त नहीं है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here