अम्बाला: पराली जलाने को रोकने को लेकर की गयी पहल

1812

चंडीगढ़: पराली प्रबंधन परियोजना के हिस्से के रूप में, किसानों को एक निजी फर्म के माध्यम से बनौंडी गांव के एक मिल में फसल अवशेष बेचने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। पराली जलाने पर अंकुश लगाने के लिए और प्रदूषण कम करने के लिए यह कदम उठाया गया है। कृषि और किसान कल्याण विभाग ने अंबाला के दो गाँवों में परियोजना शुरू की है, जिसमें किसानों को chaff cutters and balers – मशीनों से अवगत कराया गया । यह मशीन फसल के अवशेषों को कॉम्पैक्ट करता हैं, जिसके कारण अवशेषों को स्टोर या परिवहन करना आसान हो जाता है। इन्हें आगे बिजली उत्पादन के लिए नरिंगगढ़ की एक चीनी मिल में ले जाया जायेगा।

हिंदुस्तान टाइम्स में प्रकाशित खबर के मुताबिक, कृषि उप निदेशक (डीडीए) गिरीश नागपाल ने कहा कि, परियोजना अंबाला जिले के बडा और उगडा की ग्राम पंचायतों में शुरू की गई थी। उन्होंने कहा, एक अनुबंध के तहत चीनी मिल को 1,800 रुपये प्रति टन स्टबल दिया जा रहा है। मोटे तौर पर, किसानों को इस परियोजना से प्रति एकड़ लगभग 500 रुपये का लाभ होगा। किसान मशीनों में रुचि दिखा रहे हैं।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here