अमेरिका – चायना ट्रेड वॉर का मिलेगा भारत को फायदा?

506
8-10 अरब डॉलर तक चीनी निर्यात का मिल सकता है मौका
 
नई दिल्‍ली : चीनी मंडी 
विश्‍व के दो बडी ताकतें अमेरिका और चायना के बीच चल रहे ‘ट्रेड वॉर’ का भारत को फायदा मिलने की संभावना केंद्रीय वाणिज्य विभाग को लग रही है। चीन के साथ व्यापार युद्ध के कारण अमेरिका में निर्यातकों के लिए एक बडा अवसर दिखाई दे रहा है और वाणिज्य विभाग 180 उत्पादों की पहचान की है, जहां भारतीय खिलाड़ी चीनी उत्पादों की जगह पूरी तरीके से लाभ उठा सकते हैं। सरकार द्वारा दी गई सूची में 8-10 अरब डॉलर के चीनी निर्यात शामिल है।
यह मौके इंजीनियरिंग सामान से लेकर ऑटो घटकों और कुछ रसायनों तक के क्षेत्रों में फैले हुए हैं। वाणिज्य विभाग, जो व्यापार घाटे में बढ़ रहा है, उस समय भारतीय निर्यात को बढावा देने की मांग कर रहा है और भारतीय उद्योगों को आक्रामक रूप से अवसर का लाभ उठाने के लिए कहा है।
निर्यात सूची में विशेष रसायनों के अलावा वाहनों में  मोटर और अन्य घटक भी शामिल हैं। सूत्रों ने कहा कि, सरकार द्वारा दी गई सूची में 8-10 अरब डॉलर के चीनी निर्यात शामिल हैं, जो अमेरिका में उच्च आयात शुल्क से प्रभावित होंगे, सूत्रों ने कहा कि, भारतीय निर्यातक बाजार का एक हिस्सा अंकीत कर सकते हैं।
सूत्रों ने कहा, यह कितनी जल्दी और प्रभावी ढंग से भारतीय कंपनियां आगे बढ़ती है, इस पर निर्भर करता है कि यह 2-3 अरब डॉलर या इससे अधिक हो सकता है, डोनाल्ड ट्रम्प प्रशासन ने चीन से 250 अरब डॉलर के आयातित सामानों पर टैरिफ लगाए हैं, जो चीन से लगभग आधे आयात का प्रतिनिधित्व करता है।
इस कदम को बीजिंग ने माना है जिसने चीन को 110 अरब अमेरिकी डॉलर के निर्यात पर उच्च कर्तव्यों की घोषणा की है। जब भारत एक व्यापक व्यापार घाटे के साथ जूझ रहा है और चालू खाता घाटे पर चिंता के चलते रुपये में दबाव आ गया है, जहां उभरते बाजारों से विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने समस्या को बढ़ा दिया है। ऐसी स्थिती में भारत को निर्यात का मौका भुनाने के लिए हर कडे प्रयास करने की जरूरत है। इससे देश क इकॉनॉमी को भी फायदा हो सकता है।
SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here