आंध्रप्रदेश: गन्ना किसान चाहते हैं सरकार की मदद

143

कडप्पा: जिले के गन्ना किसानों में नाराजगी है। चेन्नुर सहकारी चीनी मिल के बंद होने से जिले भर में गन्ने की खेती का क्षेत्र काफी नीचे आ गया है। गन्ने की बिक्री काफी कम हो गई है, हालांकि किसान फिर भी गन्ने की खेती कर रहे हैं। कुछ किसान अपनी उपज बेचने के लिए अन्य क्षेत्रों में जा रहे हैं। हालांकि, उन्हें समय पर भुगतान नही मिल रहा हैं। लगभग 262 किसानों को दो साल से बकाया भुगतान नहीं मिला है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, नेल्लोर जिले के पोदालकुरु की चीनी मिल पर जिले के किसानों का 3 करोड़ रुपये बकाया है। पिछले साल 18 अक्टूबर को नए सचिवालय भवनों के उद्घाटन के लिए चपडू में आए सांसद अविनाश रेड्डी और माईडुकुरू के विधायक रघुरामरेड्डी से किसानों ने मदद की गुजारिश की थी। सांसद रेड्डी ने तुरंत सहायक गन्ना आयुक्त से बात की और किसानों की सहायता करने का आग्रह किया। कुछ दिन पहले, किसानों ने राज्य कृषि विभाग के मुख्य सलाहकार अंबाती कृष्णारेड्डी को अपनी समस्याएं बताईं। हालांकि, अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

चपडू मंडल के राजुगारीपेटा गांव से लगभग 31,500 टन गन्ना मिल को भेजा गया था। शुरुआत में किसानों को लगभग 30 लाख रुपये का भुगतान किया गया था, लेकिन शेष राशि दो साल से लंबित है। तब से कई किसान गन्ने की खेती नहीं कर रहे हैं। चपडू मंडल में पहले हजारों एकड़ में गन्ने की खेती की जाती थी। अब गन्ने का रकबा काफी कम हो गया है। मुख्यमंत्री वाई.एस. जगन मोहन रेड्डी ने आश्वासन दिया कि चेंनूर चीनी मिल को फिर से शुरू के लिए कदम उठाए जाएंगे। मामले को देखने के लिए सरकार द्वारा नियुक्त एक समिति को छोड़कर अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here