चीनी उद्योग के लिए एक और चुनौती?

1588

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

नई दिल्ली : चीनीमंडी

भारत में चीनी उद्योग पिछले दो से तीन सालों में रिकॉर्ड चीनी उत्पादन के कारण आर्थिक संकट में डूबा हुआ है और आगे आने वाले समय में उद्योग के सामने और एक चुनौती खड़ी हो सकती है.

केंद्र सरकार ज्यादा चीनी सेवन करने से होनेवाली बीमारीयों के बारे में सतर्क हुई है, इसीलिए सरकार द्वारा अब चीनी पैकेट पर भी जल्द ही हमें ‘ज्यादा चीनी सेहत के लिए हानिकारक है’, यह चेतावनी लिखी नजर आ सकती है। भारतीयों द्वारा ज्यादा चीनी सेवन करने की आदत पर विश्व आरोग्य संघठन द्वारा चेतावनी देने के बाद सरकार भारतीय नागरिकों के चीनी सेवन मामले में गंभीर हुई है। अब शराब, सिगार और तम्बाकू उत्पादों की तरह ही चीनी के पैकेट पर भी अब ‘चेतावनी’ लिखने की प्रक्रिया शुरू हो सकती है।

पिछले कुछ सालों से भारत की दुनियाभर में डायबेटिस की ‘राजधानी’ के तौर पर पहचान हुई है। इसीके चलते भारत में एक एनजीओ द्वारा लोगों की खानपान को लेकर ‘राइट टू इट’ मुहिम छेड़ी गई थी, अब केंद्र सरकार का खाद्य मंत्रालय इस मुहिम का हिस्सा बन गया है। खबरों के मुताबिक, अब इसी मुहिम के तहत चीनी पैकेट पर ‘ज्यादा चीनी सेहत के लिए हानिकारक है’, यह चेतावनी लिखी जाने की संभावना है।

अगर इसको लागू कर दिया गया, तो इसका असर चीनी उद्योग पर भी दिखने की संभावना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here