महाराष्ट्र की मिलों द्वारा चीनी उत्पादन में एक और कीर्तिमान स्थापित…

1048

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

पुणे : चीनीमंडी

भारत के शीर्ष चीनी उत्पादकों में से एक, महाराष्ट्र ने हाल ही में समाप्त हुए पेराई सत्र में एक और उत्पादन रिकॉर्ड स्थापित किया, जिसमें मिलों द्वारा किसानों को फसल का कुल बकाया का 85 प्रतिशत भुगतान किया गया है। राज्य की चीनी मिलों ने 2018-19 पेराई सत्र में 107.19 लाख टन चीनी का उत्पादन किया, जो पिछले साल की तुलना में थोडासा ज्यादा है।

मिलों द्वारा अब तक 16,545 करोड़ रुपये का भुगतान…
किसानों को महाराष्ट्र की चीनी मिलों का कुल बकाया 21,154 करोड़ रुपये था, जिसमें से मिलों द्वारा 16,545 करोड़ रुपये का भुगतान किया जा चुका है। 6 मई को बकाया राशि लगभग 4,831 करोड़ रुपये है। ऐसे समय में जब घरेलू खपत स्थिर रही है और निर्यात की कीमतों में गिरावट के कारण निर्यात रुका हुआ है, चीनी उत्पादन बढ़ने से उद्योग के सामने व्यापक आपूर्ति की समस्या बढ़ सकती है। भारत को 2018-19 में 330 लाख टन चीनी का उत्पादन करने की उम्मीद है, जो पिछले वर्ष के उत्पादन की तुलना में 1.5 प्रतिशत अधिक होगा।

चीनी स्टॉक लगभग 147 लाख टन होने की उम्मीद : इस्मा
इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (इस्मा) को उम्मीद है कि, महाराष्ट्र में सूखे के कारण 2019-20 सीज़न में गन्ने की उपलब्धता काफी कम होगी। 1 अक्टूबर, 2018 को 107 लाख टन का शुरुआती अधिशेष स्टॉक, इस सीझन का 330 लाख टन का अनुमानित उत्पादन और 260 लाख टन के घरेलू खपत और 30 लाख टन के अनुमानित निर्यात को देखा जाए तो 2018-19 के अंत में चीनी स्टॉक लगभग 147 लाख टन के उच्च स्तर पर होने की उम्मीद है। चीनी उद्योग पहले ही अधिशेष स्टॉक को समाप्त करने के लिए संघर्ष कर रहा है, उसकी और परेशानी बढ़ सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here