केन्या में ‘शुगर बिल’ में तेजी लाने की अपील

172

नैरोबी: केन्या के लेक रीजन इकोनॉमिक ब्लॉक के गवर्नरों ने संसद से ‘शुगर बिल’ में तेजी लाने की अपील की है, ताकि राज्य के स्वामित्व वाली चीनी मिलों को पुनर्जीवित करने में मदद मिल सके। गवर्नरों ने कहा कि, बिल पिछले आठ महीने से नेशनल असेंबली के सामने है। ब्लॉक के अध्यक्ष और काकमेगा के गवर्नर वाईक्लिफ ओपरान्या ने कहा कि, वे कृषि कैबिनेट सचिव पीटर मुन्या को बिल में तेजी लाने के तरीके के बारे में बताएंगे। मुन्या से मिलने के बाद, वे बिल में तेजी लाने के लिए नेशनल असेंबली के अध्यक्ष जस्टिन मुतुरी और सीनेट के अध्यक्ष केनेथ लुसाका के साथ चर्चा करेंगे। किसुमू में ब्लॉक के सातवें शिखर सम्मेलन के बाद बोल रहे ओपरान्या ने कहा कि, गवर्नर संसद में संबंधित समितियों को भी शामिल करेंगे।

सदस्य काउंटियों में किसुमु, मिगोरी, नंदी, काकमेगा, बोमेट, सियाया, बुसिया, होमा बे, किसी, विहिगा, ट्रांस नज़ोइया, बुंगोमा, केरिचो और न्यामिरा हैं। गवर्नर आन्यांग न्योंगो (किसुमु), विल्बर ओटिचिलो (विहिगा), सोस्पेटर ओजामोंग (बुसिया), विक्लिफ वांगमाती (बुंगोमा), जेम्स ओंगवे (किसी) और सिया के डिप्टी गवर्नर जेम्स ओकुम्बे ने बैठक में भाग लिया। ब्लॉक के सीईओ अबला वांगा और एलआरईबी सलाहकार समिति के कई सदस्य भी उपस्थित थे। ओपरान्या ने कहा कि, इस क्षेत्र में सभी चीनी कंपनिया ध्वस्त हो गई हैं, इसलिए उन्हें सुधारने की जरूरत है। राज्य के स्वामित्व वाले मिल मालिक वित्तीय बाधाओं, पुरानी मशीनों और किसानों और श्रमिकों दोनों के भारी बकाया जैसी विभिन्न चुनौतियों से जूझ रहे हैं।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here