चीनी उद्योग को इथेनॉल उत्पादन पर ध्यान केंद्रित करने की अपील

259

अहमदनगर: चीनी मंडी

राज्य चीनी आयुक्त शेखर गायकवाड़ ने अपील की कि, चीनी का औद्योगिक उपयोग दिन-प्रतिदिन कम होता जा रहा है। चॉकलेट और पेय कंपनियां अब चीनी का उपयोग करने से इनकार कर रही हैं, और उत्पादन लागत में बचत कर रहें है। इसलिए, चीनी मिलों को अब गन्ने के रस/ज्यूस से इथेनॉल उत्पादन में स्थानांतरित करना चाहिए।

सहकार महर्षि भाऊसाहेब थोरात चीनी मिल का पेराई सीजन गुरुवार से शुरू हुआ। इस समय उन्होंने कहा, “चूंकि चीनी उद्योग मुश्किल में है, इसलिए नए विकल्प खोजना आवश्यक है। इसमें सबसे अच्छा विकल्प इथेनॉल उत्पादन है, इथेनॉल की कीमत चीनी से अधिक है। राज्य में लगभग 35 चीनी मिलें आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण बंद होने के कगार पर हैं।”

कार्यकारी निदेशक जगन्नाथ घुंगरकर ने कहा, “विपरीत परिस्थितियों में भी, विधायक बालासाहेब थोरात के नेतृत्व में मिल ने राज्य में सबसे अधिक कीमत चुकाने की परंपरा को बनाए रखा है। उन्होंने मांग की कि, सरकार अत्यधिक पानी के उपयोग को रोकने के लिए ड्रिप सिंचाई के लिए सब्सिडी प्रदान करें।”

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here