8 अक्टूबर 2020 को होगा ‘एशियन शुगर कॉन्फ्रेंस 2020’

189

नई दिल्ली : 8 अक्टूबर 2020 को एशियन शुगर कॉन्फ्रेंस 2020 होने जा रहा है। इस व्हर्चुअल / आभासी सम्मेलन का मुख्य उद्देश्य एशिया में चीनी मांग – आपूर्ति स्थिति पर ध्यान केंद्रित करना है। सम्मेलन में, भारत का वर्तमान चीनी परिदृश्य, चीनी नीति और चीनी उद्योग के लिए आवश्यक तकनीकी जरूरतें, चीनी उत्पादन और खपत पर कोरोना के प्रभाव से संबंधित मामले, चीनी गुणवत्ता, विविधीकरण, पैकेजिंग और सुरक्षित परिवहन से संबंधित मुद्दों पर विस्तार से चर्चा की जायेगी।

सम्मेलन आयोजक राष्ट्रीय चीनी संस्थान के निर्देशक प्रो नरेंद्र मोहन ने इस सम्मेलन के आयोजन पर अपने विचार साझा किए। उन्होंने कहा की, पिछले कुछ वर्षों से लगातार भारत में चीनी का अधिशेष उत्पादन हो रहा है। इथेनॉल उत्पादन में बढ़ावा देने के बावजूद पिछले पेराई सत्र में भी चीनी का अधिशेष उत्पादन हुआ और अगले 2020-21 चीनी सीजन के दौरान फिर से एक बार बंपर चीनी उत्पादन होने की उम्मीद है। उन्होंने दावा किया की, कोरोना महामारी चीनी उद्योग को कई बदलावों को मजबूर करेगी। कच्चे तेल की कीमतों को देखते हुए, ब्राजील आगामी सीजन में इथेनॉल के बजाय चीनी उत्पादन पर अधिक ध्यान केंद्रित करने की उम्मीद है। जिससे भारत को विश्व बाज़ार में चीनी बिक्री के लिए ब्राज़ील से कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ सकता है।

प्रो नरेंद्र मोहन ने कहा, चीनी उत्पादक देशों से प्रतिस्पर्धा और विश्व व्यापार संगठन के प्रतिबंधों के कारण, भारत को चीनी निर्यात करना मुश्किल हो रहा है और अगले सत्र में भी अधिशेष स्टॉक में वृद्धि होने की काफी संभावना बनी हुई है। गन्ने के रस, बी-हैवी मोलासिस या अन्य मार्गों से चीनी के बजाय इथेनॉल उत्पादन करने के बाद भी चीनी की मांग-आपूर्ति की स्थिति मुश्किल बनी रह सकती है। हालाँकि, अब तक कोरोना महामारी के कारण चीनी उद्योग पर अधिक प्रभाव नहीं पड़ा है, लेकिन यही स्थिति जारी रहती है, तो आगे जाकर संकटों का सामना करना पड़ सकता है। उपरोक्त सभी कारकों और उससे निपटने के संभावित तरीकों पर प्रस्तावित सम्मेलन में चर्चा होने की उम्मीद है।

‘एशियन शुगर कॉन्फ्रेंस 2020’ के मुख्य वक्ता हैं…

श्री अबिनाश वर्मा, महानिदेशक, इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन, भारत
सुश्री एल्हाम बेरेनजियन तब्रीज़ी, नई परियोजना विकास प्रबंधक, ईरान
श्री ए.पी. केरीथिपाला, पूर्व निदेशक, चीनी अनुसंधान संस्थान, श्रीलंका
श्री सुभेंदु पोबी, तकनीकी प्रमुख विल्मर इंटरनेशनल, थाईलैंड
डॉ डब्ल्यू वनिश्चिरत्न, एसोसिएट प्रोफेसर, कासेट्सर्ट विश्वविद्यालय, थाईलैंड
प्रो. नरेंद्र मोहन, निदेशक, राष्ट्रीय शर्करा संस्थान, कानपुर
डॉ आशुतोष बाजपेयी, प्रोफेसर शुगर टेक्नोलॉजी, राष्ट्रीय शर्करा संस्थान, कानपुर

एशियन शुगर कॉन्फ्रेंस 2020 के प्रतिभागियों को प्रत्येक प्रस्तुति के अंत के बाद वक्ताओं से प्रश्न पूछने का अवसर भी मिलेगा। अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें: डॉ आशुतोष बाजपेयी (समन्वयक) +91 7355983345 | www.nsi.gov.in, asiansugarc@gmail.com
Registration link: https://forms.gle/pXHNE3j3tk7VYb1n7

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here