असम: करीमगंज में बाढ़ की स्थिति बिगड़ी; 1.34 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित

27

करीमगंज : असम के करीमगंज जिले में बाढ़ की स्थिति खराब हो गई है, और कुशियारा, लोंगई और सिंगला नदियों के बाढ़ के पानी ने जिले के नए क्षेत्रों में 1.34 लाख से अधिक लोगों को प्रभावित किया है।बाढ़ के पानी से जिले की कई मुख्य सड़कें जलमग्न हो गई हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, राज्य में 2022 में हुई मूसलाधार बारिश के कारण आई बाढ़ और भूस्खलन में अब तक 82 लोगों की मौत हो चुकी है।हालांकि, जिले में मौजूदा बाढ़ की स्थिति को देखते हुए करीमगंज प्रशासन ने 23 जून तक जिले के सभी सरकारी और निजी शिक्षण संस्थानों को बंद कर दिया है। इस बीच, भारतीय सेना, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ), सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ), राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) और राज्य आपदा प्रतिक्रिया कोष (एसडीआरएफ) ने कछार जिले के बाढ़ प्रभावित इलाकों में बचाव अभियान चलाया।

वर्तमान में, 32 जिलों के 125 राजस्व मंडलों के तहत 5424 गांव- बजली, बक्सा, बारपेटा, विश्वनाथ, बोंगाईगांव, कछार, चिरांग, दरांग, धेमाजी, धुबरी, डिब्रूगढ़, दीमा हसाओ, गोलपारा, गोलाघाट, हैलाकांडी, होजई, कामरूप, कामरूप ( मेट्रो), कार्बी आंगलोंग वेस्ट, करीमगंज, कोकराझार, लखीमपुर, माजुली, मोरीगांव, नगांव, नलबाड़ी, शिवसागर, सोनितपुर, दक्षिण सलमारा, तामुलपुर, तिनसुकिया, उदलगुरी- बाढ़ के पानी में डूबे हुए हैं। अकेले बारपेटा जिले में 12.30 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं, इसके बाद दरांग में 4.69 लाख, नगांव में 4.40 लाख, बजली में 3.38 लाख, धुबरी में 2.91 लाख, कामरूप में 2.82 लाख, गोलपारा में 2.80 लाख लोग प्रभावित हुए हैं। कछार में 2.07 लाख, नलबाड़ी में 1.84 लाख, दक्षिण सलमारा में 1.51 लाख, बोंगाईगांव में 1.46 लाख और करीमगंज जिले में 1.34 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। बाढ़ प्रभावित जिलों के प्रशासन ने राज्य में 810 राहत शिविर और 615 राहत वितरण केंद्र स्थापित किए हैं, जहां वर्तमान में लगभग 2.32 लाख लोग राहत शिविरों में रह रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here