तमिलनाडु चीनी उद्योग को मदद का आश्वासन

262

चेन्नई: तमिलनाडु का चीनी उद्योग बुरी तरह से संकट में फसा हुआ हैऔर साथ ही आर्थिक तंगी से जूझ रहा है। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आश्वासन दिया की वे राज्य के चीनी उद्योग को संकट से बाहर निकालने में मदद करेंगी। सीतारमण, जो ‘मोदी सरकार के 100 दिनों में उपलब्धियां’ को समझाने के लिए चेन्नई में थीं, ने तमिलनाडु में चीनी उद्योग के प्रतिनिधियों को उनकी मुसीबतों पर काबू पाने में मदद करने का आश्वासन दिया है।

सीतारमण ने उद्योग को अपने ऋणों के पुनर्गठन के लिए RBI और बैंकों के साथ बैठक की व्यवस्था करने का वादा किया है।

रूठा हुआ मानसून, ठप चीनी मांग और कीमतों में गिरावट के कारण तमिलनाडु में चीनी उद्योग डगमगा गया है। निजी क्षेत्र की 25 में से 16 चीनी मिलें चालू नहीं हो सकती। बढ़ते ब्याजों और उसके आलावा कई कारणों के वजह से मिलों ने काम करना बंद कर दिया है, जिससे गन्ना बकाया भुगतान भी बहुत बढ़ गया है।

दक्षिण भारत चीनी मिल संघ (SISMA) के अध्यक्ष पलानी जी पेरियासामी ने कहा, “यह उद्योग के लिए एक ऐतिहासिक दिन था, क्योंकि यह पहली बार था जब केंद्रीय वित्त मंत्री ने चीनी उद्योग के प्रतिनिधियों के साथ बातचीत की। उन्होंने समाधान खोजने के लिए आवश्यक कदमों पर भी विस्तार से चर्चा की।”

पेरियासामी ने आगे कहा, “उन्होंने आरबीआई और बैंकों के साथ एक बैठक आयोजित करने सहित कई सुझाव दिए हैं, जिसमें हम चर्चा कर सकते हैं और चीनी उद्योग को तमिलनाडु में पुनर्जीवित करने और इसके पूर्व गौरव तक पहुंचने के लिए एक समाधान ढूंढ सकते हैं।”

बैठक में राज्य के सभी चीनी मिल मालिकों और तीन गन्ना उत्पादक संघों के प्रतिनिधियों के अलावा, राज्य सरकार के अधिकारी और चीनी आयुक्त मौजूद थे।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here