बांग्लादेश: चीनी मिलों द्वारा कम चीनी उत्पादन की संभावना…

299

ढाका: ठाकुरगंज और जॉइपुरहाट चीनी मिलें पिछले सीजन की तुलना में इस साल कम चीनी उत्पादन करने की संभावना हैं, क्योंकि उन्होंने गन्ने की पेराई की मात्रा में कटौती की है। ठाकुरगंज चीनी मिल ने 24 दिसंबर को गन्ने की पेराई शुरू की, जबकि जॉइपुरहाट चीनी मिल में 30 दिसंबर को पेराई शुरू हुई। प्रारंभ में, तकनीकी खराबी के कारण ठाकुरगंज मिल में उत्पादन बाधित हुआ था। ढाका के विशेषज्ञों द्वारा गड़बड़ियों को ठीक करने के बाद मिल फिर से शुरू हो गई। अधिकारियों का कहना है कि, मिल में पुरानी मशीनों में खराबी आना आम बात है। मिल प्रबंधन ने 50,000 टन से अधिक गन्ने की पेराई का लक्ष्य रखा है। करीब 36 हजार टन गन्ना जिले से आएगा, जबकि बाकी दिनाजपुर और पंचगढ़ से आएगा। ठाकुरगंज चीनी मिल के महाप्रबंधक (कृषि) अबू रेहान ने कहा कि, चीनी रिकवरी पिछले साल की तुलना में काफी अधिक है। इस सीजन में करीब 3,750 टन चीनी का उत्पादन होगा।

हालांकि, वे ठाकुरगंज चीनी मिलों की पुरानी मशीनरी के लिए इस साल उत्पादन लक्ष्य प्राप्त करने से आशंकित हैं क्योंकि संचालन बार बार बाधित हो रहा है।जॉयपुरहाट चीनी मिल इस साल कम से कम 30,000 टन गन्ने की पेराई करेगी, जबकि पिछले साल लगभग 1.6 लाख टन थी। इस वर्ष लगभग 1,800 टन चीनी का उत्पादन किया जाएगा, जिसकी रिकवरी दर 6.5 प्रतिशत हो सकती है। जॉयपुरहाट चीनी मिल के प्रबंध निदेशक रब्बिक हसन ने कहा कि, मिल केवल जिले में उत्पादित गन्ने की पेराई करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here