बांग्लादेश: वजन घटने से गन्ना किसानों को बड़े पैमाने पर नुकसान

108

ढाका: देर से हुई फसल पैदावार की वजह से रिकवरी और गन्ने के वजन में बड़ी मात्रा में गिरावट आई है, जिसकी वजह से बांग्लादेश के गन्ना उत्पादक किसानों को इस साल भारी नुकसान हुआ है। उत्तरी चीनी मिलों को छोड़कर अधिकांश मिलों की चीनी रिकवरी दर 5.20 प्रतिशत से नीचे थी। बांग्लादेश में गन्ने का औसत रिकवरी दर दुनिया के शीर्ष दो गन्ना उत्पादक भारत और ब्राजील से आधा है। उत्तरी जिले के एक चीनी मिल के प्रबंध निदेशक ने कहा, उत्पादकों के अलावा, मिलों को भी इस सीजन में भारी नुकसान का सामना करना पड़ा। घाटे को कम करने के लिए 2020-21 वित्तीय वर्ष के लिए छह मिलों में चीनी उत्पादन को निलंबित कर दिया गया था।

पिछले साल नवंबर के अंत में, बांग्लादेश चीनी और खाद्य उद्योग निगम (BSFIC) ने परिचालन घाटे को कम करने के लिए 15 मिलों में से सेताबगंज चीनी मिल, श्यामपुर चीनी मिल, रंगपुर चीनी मिल, पंचगढ़ चीनी मिल, पबना चीनी मिल और कुशतिया चीनी मिल को बंद करने का फैसला किया था। बांग्लादेश चीनी और खाद्य उद्योग निगम ने नौ शेष कार्यात्मक इकाइयों की आपूर्ति के लिए पहले से छह बंद मिलों कैचमेंट क्षेत्रों से गन्ना खरीदने का भी फैसला किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here