देश भर में चीनी मिलों पर 15,222 करोड़ बकाया

191

नई दिल्ली: चीनी मिलों की वित्तीय स्थिति में सुधार लाने और गन्ने के बकाया को कम करने के लिए, सरकार ने कोई कसर नहीं छोड़ी और पिछले कुछ वर्षों में विभिन्न उपायों को पेश किया, लेकिन गन्ना किसानों का दावा है कि अभी भी बकाया धीमी गति से चुकता हो रहा है।

पेराई सत्र 2018-2019 में, केंद्र के हस्तक्षेप के कारण गन्ने का बकाया 15,222 करोड़ रुपये पर आ गया, खाद्य मंत्री रामविलास पासवान ने 23 जुलाई को संसद को यह सूचित किया। गन्ने का बकाया भुगतान नहीं होने के कारण, विभिन्न राज्यों के किसानों ने अपना आंदोलन तेज कर दिया है और सरकार पर दबाव बना रहे हैं।

चीनी मिलों का दावा है कि पेराई सत्र 2017-2018 और 2018-2019 में अतिरिक्त चीनी उत्पादन और कम घरेलू चीनी की कीमतों के कारण गन्ना बकाया चुकाने में कठिनाई आ रही है।

पासवान ने लोकसभा में कहा, पेराई सत्र 2017-2018 में गन्ने का बकाया 285 करोड़ रुपये तक बाकी है। उन्होंने आगे कहा, “2017-18 और 2018-19 के विपणन वर्षों के दौरान गन्ने का बकाया 85,179 करोड़ रुपये और 85,546 करोड़ रुपये था।”

चीनी मिलों की सहायता करने के लिए केंद्र ने बैंकों के माध्यम से सॉफ्ट लोन योजना को मंजूरी दी थी, इसके साथ ही, भारत भर में चीनी मिलों से चीनी की न्यूनतम बिक्री मूल्य में वृद्धि करने की मांग की गई, जिस पर विचार करते हुए सरकार ने इसे 29 रुपये से बढ़ाकर 31 रुपये प्रति किलोग्राम कर दिया।

गन्ना नियंत्रण अधिनियम 1966 के अनुसार, गन्ना का भुगतान 14 दिनों के भीतर अनिवार्य हैं, और उस पर 15 प्रतिशत ब्याज देने का आदेश देता है, यदि वे समय पर पालन करने में विफल रहते हैं।

चूंकि भारत में चीनी मिलें न बीके हुए चीनी के कारण त्रस्त हैं। इसलिए, सरकार चीनी मिलों की वित्तीय स्थिति को मजबूत करने के लिए इथेनॉल उत्पादन पर जोर दे रही है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here