लॉकडाउन: महिलाओं ने गन्ना श्रमिकों की सहायता के लिए जुटाए 75 लाख रूपयें

222

मुंबई : चीनी मंडी

महाराष्ट्र के बीड जिले में 300 ग्रामीण महिलाओं द्वारा संचालित एक गैर-लाभकारी संगठन ने विभिन्न संगठनों की सहायता से गन्ना श्रमिकों और उनके परिवारों की मदद के लिए 75 लाख जुटाए हैं। नवचेतना सर्वांगीण विकास केंद्र (NSVK), जो महिलाओं द्वारा चलाया जाता है, बीड के आसपास दलित समुदायों और गैर-अधिसूचित जनजातियों, भूमिहीन श्रमिकों और प्रवासी गन्ना मजदूरों के लिए काम करते है।

नवचेतना सर्वांगीण विकास केंद्र लॉकडाउन के दौरान राहत प्रयासों में जुट गया है। अब तक, नवचेतना सर्वांगीण विकास केंद्र 300 गांवों में 7,000 परिवारों तक मदद पहुचाने में कामयाब हुआ है। NSVK की संस्थापक मनीषा घुले ने कहा, इस साल, हजारों गन्ना श्रमिक लॉकडाउन के कारण अपने गाँवों में लौट आए है, लेकिन उनको अन्य ग्रामीणों द्वारा परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। ग्रामीणों को डर था कि, बाहर से आए गन्ना श्रमिकों को शायद कोरोना वायरस बीमारी का संक्रमण हुआ होगा। घुले ने कहा कि, गन्ना श्रमिकों के परिवारों को राशन, चिकित्सा और स्वच्छता संबंधी जरूरतों को प्रदान करने के लिए NSVK ने तत्काल कदम उठाए। NSVK अब बीड में अन्य 3,000 परिवारों तक मदद पहुंचाने के लिए क्राउड-फंडिंग के माध्यम से धन जुटाने पर विचार कर रहा है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here