भारतीय चीनी उद्योग को निर्यात का बड़ा अवसर

1160

पुणे: चीनीमंडी

हर साल 45 लाख टन चीनी का आयात करने वाले इंडोनेशिया ने भारतीय आयातित चीनी टैक्स को 15% से घटाकर 5% कर दिया है। इसके अलावा, भारत से कच्ची चीनी खरीदने पर भी सहमति हुई है। नेशनल को-ऑपरेटिव शुगर मिल्स फेडरेशन के प्रबंध निदेशक  प्रकाश नाईकनवरे के अनुसार, भारतीय उद्योग को इंडोनेशिया को बड़ी मात्रा में कच्ची चीनी के निर्यात का अवसर मिलेगा।

खाद्य मंत्रालय ने हाल ही में संयुक्त सचिव (चीनी) की अध्यक्षता में चीनी संघ के प्रतिनिधियों के साथ एक महत्वपूर्ण बैठक आयोजित की थी। बैठक में शुगर फेडरेशन के अध्यक्ष दिलीप वलसे पाटिल, विश्व व्यापार विशेषज्ञ, देश भर के प्रमुख निर्यातक और संबंधित सरकारी अधिकारी शामिल हुए थे। इस बैठक में 2019-20 सीज़न और चीनी निर्यात नीति योजना के बारे में विस्तार से चर्चा की गई।

पिछले कुछ वर्षों में, पूरे देश में रिकॉर्ड चीनी के उत्पादन के कारण मिलों को कई समस्याओं का सामना करना पड़ा है। इसलिए, केंद्र सरकार और चीनी उद्योग के एक संयुक्त प्रतिनिधिमंडल ने चीन, इंडोनेशिया, बांग्लादेश, मलेशिया, कोरिया, आदि देशों का दौरा किया, ताकि चीनी निर्यात के लिए नये बाजार मिल सके। नाइकवरे ने कहा कि, प्रतिनिधिमंडल दौरे के अच्छे परिणाम आने लगे है। इंडोनेशिया ने पहले भारतीय चीनी पर 15 प्रतिशत आयात शुल्क लगाया था; लेकिन संयुक्त चर्चा के बाद, उन्होंने सकारात्मक प्रतिक्रिया दी और आयात शुल्क घटाकर 5 प्रतिशत कर दिया।

वैश्विक मंदी से भारत को होगा लाभ….

चालू वर्ष में, थाईलैंड, पाकिस्तान, ब्राजील और यूरोप चीनी उत्पादन में गिरावट के संकेत दे रहे हैं। इसलिए, विश्व स्तर पर दो वर्षों में पहली बार चीनी की सामान्य कमी देखने की संभावना है। जाहिर है कि भारत से कच्चे और सफेद चीनी का निर्यात वैश्विक बाजारों से अच्छी मांग होगी। हालाँकि, इसके लिए चीनी मिलों को अब निर्यात के लिए योजना बनानी चाहिए। साल 2018-19 में भारत चीनी का उत्पादन लगभग 330 लाख टन तक पहुंच गया है। स्थानीय खपत और निर्यात को देखते हुए, 1 अक्टूबर, 2019 से शुरू होने वाले नए चीनी सीजन का शुरुआती रिकॉर्ड बैलेंस लगभग 145 लाख टन का होगा। इसलिए, भारत से कम से कम 60 से 70 लाख टन चीनी का निर्यात करना आवश्यक है। केंद्र ने उस दिशा में कदम उठाए हैं। राष्ट्रीय सहकारी चीनी मिल संघ ने मिलों को निर्यात के लिए तैयार करने का आग्रह किया है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here