बिलाई मिल ने तोड़ दिए चीनी रिकवरी के सारे रिकॉर्ड

1184

लखनऊ: चीनी मंडी

उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले में बजाज समूह की बिलाई चीनी मिल ने चीनी रिकवरी दर के मामले में सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। मिल ने 14.01 प्रतिशत की रिकवरी की है, जो कि भारत में किसी भी मिल द्वारा अब तक की सबसे अधिक रिकवरी दर है।

ChiniMandi.com के साथ बात करते हुए, बजाज हिन्दुस्थान शुगर के वरिष्ठ उपाध्यक्ष एसएम रज़ा ने इस खबर की पुष्टि की और इसे भारतीय चीनी उद्योग में एक उल्लेखनीय रिकॉर्ड करार दिया।

श्री रज़ा के अनुसार, आमतौर पर, एक गन्ने की किस्म का जीवन लगभग 20 साल होता है। बिलाई मिल Cos  767 में, Cos 8436, Cos 8432 बहुत पुरानी किस्में थीं जिन्हें पिछले तीन सालों में नई किस्मों के साथ Co 238, Coj 85  के साथ बदल दिया गया। अधिक उपज देने वाली गन्ने की किस्मों से चीनी मिल को फायदा हुआ है। चीनी मिल द्वारा गन्ना प्रबंधन ने समान रूप से इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए योगदान दिया।

किसानों को बुवाई के नए तरीकों से कराया अवगत

रज़ा ने कहा, गन्ना प्रबंधन कर्मचारियों ने किसानों को प्रशिक्षित किया और उन्हें गन्ने की बुवाई के नए तरीकों से अवगत कराया और उन्हें बीज और पौधों के गन्ने के उपचार के बारे में जानकारी भी प्रदान की।

गन्ने की परिपक्वता अवधि बढ़ने से फायदा….

उचित गन्ने के बीज उपचार के बाद रोपण किया गया था और रोपण का समय भी पूर्व-निर्धारित किया गया था, जो कि पहले गन्ने की कटाई के बाद किया जाता था। मिल विकास कर्मचारियों ने किसानों को शुरुआती गन्ना रोपण के लाभ के बारे में समझाया और इस तरह गेहूं की बुवाई से पहले गन्ना रोपण सुनिश्चित किया। परिणामस्वरूप, परिपक्वता अवधि बढ़कर 12 महीने हो गई। जिसने किसानों और मिल दोनों को लाभान्वित किया, क्योंकि गन्ने के सुक्रोस में बढ़ोतरी हुई।

रज़ा ने इस मुकाम को हासिल करने का श्रेय यूनिट हेड उपाध्यक्ष श्री अजय शर्मा को भी दिया।

सही मार्केटिंग रणनीति से कामयाबी हासिल : शर्मा

यह पूछे जाने पर कि चीनी की इस असाधारण रिकवरी दर को हासिल करने के लिए अन्य कारकों ने क्या महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, श्री अजय शर्मा ने कहा, हमने सही मार्केटिंग रणनीति का पालन किया और चीनी मिल की पेराई क्षमता के साथ कटाई की क्षमता का मिलान किया गया। गन्ना केंद्रों पर नियमित गन्ने की खरीद सुनिश्चित की गई थी, साथ ही क्रशिंग के लिए मिल में ताजा गन्ने की आवक को प्राप्त करने के लिए परिवहन प्रणाली को भी मजबूत किया गया था। यात्रा मार्गों को छोटा कर दिया गया था, और न्यूनतम नुकसान के साथ नियमित रूप से संयंत्र संचालन सुनिश्चित किया गया था।

उत्तर प्रदेश में 97.56 लाख टन चीनी उत्पादन…

रिकवरी में वृद्धि आनुपातिक रूप से मिल को चीनी उत्पादन बढ़ाने में मदद करेगी। उत्तर प्रदेश की मिलों में इस सीजन में अब तक 11.42 प्रतिशत रिकवरी दर है, जबकि 2017-18 की इसी अवधि में 10.84 प्रतिशत दर्ज की गई थी। इसके अलावा, रिपोर्टों के अनुसार, उत्तर प्रदेश लगातार दूसरे वर्ष के लिए भारत का शीर्ष चीनी उत्पादक बनने के लिए तैयार है। नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, उत्तर प्रदेश में 117 चीनी मिले अभी भी पेराई कर रही है  और अब  तक  97.56 लाख टन चीनी का उत्पादन हुआ  है, जबकि महाराष्ट्र में चीनी का उत्पादन 105.49 लाख टन है, जिसमें राज्य की 37 चीनी मिलो में अभी भी पेराई जा रही है।

डाउनलोड करे चीनीमंडी न्यूज ऐप:  http://bit.ly/ChiniMandiApp

SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here