कर्नाटक में गन्ने के खेत से 12 बंधुआ व बाल मजदूरों को छुड़ाया गया

222

हासन (कर्नाटक): कर्नाटक के हासन जिले में बंधुआ मज़दूरी का एक संगीन मामला प्रकाश में आया है, जहां 12 लोगों को एक गन्ने के खेत से छुड़ाया गया जिनमें कई बाल मज़दूर भी शामिल हैं। इन्हें 4 साल से वहां बंधुआ मज़दूर बनाकर रखा गया था।

प्राप्त जानकारी के अनुसार, 9 दिसंबर को स्थानीय एनजीओ शांता जीवन ज्योति (SJJ) को एक बंधुआ मज़दूर ने सूचना देकर मदद की गुहार लगायी थी। 10 दिसंबर को दोपहर करीब 3.30 बजे SJJ के कार्यकर्ता, स्थानीय तहसीलदार, होलेनरसीपुरा ग्रामीण पुलिस और श्रम विभाग के अधिकारी मुंडनहल्ली स्थित गन्ने के खेत में गए और बंधुआ मजदूर बनाकर रखे गए इन 12 लोगों को बचाया। इन बचाये गए लोगों में नागम्मा (20), मुत्थु (23), रानी (45), सुब्बन्ना (50), रूपा (15), परशुराम (24), मनोज (18), नागराजू (22), श्रवण (13) , भंडारी (12), प्रवीना (8) और प्रज्जवल कुमार (13) शामिल हैं।

पुलिस ने बताया कि गन्ना खेत के सुपरवाइजर्स भद्यानायक और सोमशेखरप्पा चार साल पहले 1,500 रुपये एडवांस देने का झांसा देकर तीन बेहद गरीब परिवारों के इन 12 सदस्यों को होलेनरसीपुरा ले गया और इन्हें शिवमोगा जिले के भद्रावती में रखा। इस दौरान दोनों सुपरवाइजरों ने पीड़ितों से चन्नरायापटन, होलेनरसीपुरा, होसपेट, रानेबेन्नूर, हरिहर और हिरेकेरुर के विभिन्न गन्ना खेतों में काम कराया। उन्हें 15 दिनों के काम के लिए मात्र 500 रुपये दिये जाते और वे मुंडनहल्ली के गन्ना खेतों में तिरपाल शीट की झोंपड़ी बनाकर सोते। पुलिस ने बताया कि एक सुपरवाइजर हमेशा उनकी निगरानी करता था। उन्हें महीने में सिर्फ एक दिन की छुट्टी दी जाती और किसी को अपने घर वापस नहीं जाने दिया जाता। एक बार मुथु वहां से भागकर भद्रावती गया था लेकिन भद्यानायक उसे कर्ज़ चुकता करने की बात कहकर जबरन वापस ले आया। मुत्थु ने ही SJJ से संपर्क कर इस मामले की सूचना दी।

पुलिस ने दोनों आरोपियों पर आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया तथा पुलिस हिरासत में भेज दिया है। हासन के उपायुक्त ने पीड़ितों को रिलीज प्रमाणपत्र जारी किया, हालांकि अधिकारियों ने बताया कि पीड़ितों के पास उचित पहचान दस्तावेज नहीं होने के कारण मुआवजा देने में देरी हुई। एक कार्यकर्ता ने बताया कि पीड़ित भद्रावती लौट गए तथा आधार कार्ड सहित सभी ज़रूरी दस्तावेज प्राप्त करने में उनकी मदद की जा रही है। पीड़ितों के बैंक खाते खुलवाकर प्रत्येक को 20,000 रुपये स्थानांतरित किए जाएंगे।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here