ब्राजील की चीनी मिलें इथेनॉल उत्पादन क्षमता में कर रही वृद्धि… चीनी बनेगी कम !

609
साओ पावलो : चीनी मंडी 
ब्राजील की चीनी मिलें चीनी की निराशाजनक वैश्विक कीमतें और जैव ईंधन की मांग को बढ़ावा देने की सरकारी नीतियों के चलते इथेनॉल का उत्पादन करने की अपनी क्षमता में वृद्धि कर रही हैं। 2018-19 सीजन में इथेनॉल में एक बदलाव ने ब्राजील के चीनी उत्पादन को 12 साल के निचले स्तर पर तकरीबन  9 मिलियन टन (एमटी) तक घटा दिया है।  अगले सीजन में चीनी से जैव ईंधन में  स्विचिंग से चीनी के वैश्विक अधिशेष को खत्म करने में मदद मिल सकती है। यू.एस. डिपार्टमेंट ऑफ एग्रीकल्चर के मुताबिक ब्राजील 16 वर्षों में पहली बार भारत से सबसे बड़े चीनी उत्पादक के रूप में अपना ताज खो सकता है।
इथेनॉल के लिए 90% गन्ने के उपयोग के विकल्प पर काम…  
ब्राजील की प्रमुख चीनी फर्म बायोसेव और यूसीना के अधिकारी कोरुरिपे , साथ ही उसिना बतातैस  और उसिना सर्रादाओ  जैसे छोटे चीनी उत्पादकों ने कहा कि, वे अब अगले सीजन से पहले अधिक इथेनॉल क्षमता में निवेश कर रहे है । उदाहरण के लिए, ब्राजील के दूसरे सबसे बड़े गन्ना प्रोसेसर बायोसेव ने कहा कि, यह मातो ग्रोसो डो सुल क्लस्टर में दो प्लांट पर आसवन (डिस्टलरी) स्तंभ स्थापित कर रहा है ताकि मिलों को इथेनॉल के लिए 90% गन्ना का उपयोग करने का विकल्प दिया जा सके, जो अब 50% से ऊपर है।
ब्राजील ने 1975 से जैव ईंधन के उत्पादन के लिए उठाये बड़े कदम… 
ओपेक की आपूर्ति प्रतिबंध ने तेल की कीमतों में वृद्धि के बाद ब्राजील ने 1975 में पहली बार अधिक जैव ईंधन का उपयोग करने के लिए नीतियों को आगे बढ़ाया। शुद्ध इथेनॉल या गैसोलीन-इथेनॉल मिश्रण पर चलने वाली तथाकथित फ्लेक्स-ईंधन कारें अब ब्राजील के हल्के वाहन बेड़े का 80% बनाती हैं।  इस साल सरकार ने रेनोवाबीओ नामक एक कार्यक्रम को मंजूरी दी जो ईंधन वितरकों को धीरे-धीरे 2020 से बेचने वाले जैव ईंधन की संख्या में वृद्धि करने के लिए अनिवार्य है। ब्राजील के खान और ऊर्जा मंत्रालय ने उम्मीद की है कि, रेनोवा बायो ने 2018 में 26.7 बिलियन से 2028 में 47.1 बिलियन लीटर की मांग का लक्ष्य रखा है,, जिससे ब्राजील के इथेनॉल उद्योग सब्सिडी वाले गैसोलीन की कीमतों के साथ प्रतिस्पर्धा के वर्षों से ठीक हो जाए। डेटाग्रो के मुख्य विश्लेषक प्लिनियो नास्टारी ने कहा,इथेनॉल उद्योग में  निवेश केवल लंबी अवधि के लिए है, इन निवेशों का उद्देश इथेनॉल उत्पादन के लक्ष्य तक पहुंचना है।
SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here