चीनी आयात पर रोक: ब्राजील ने ‘डब्ल्यूटीओ’ में की चायना की शिकायत

जिनिव्हा : चीन ने ब्राजील से आयात की जाने वाली चीनी पर एकतरफा घरेलू उत्पादन की रक्षा के लिए रोक लगा दी है। ब्राजील ने चायना की विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ ) से शिकायत की है। चायना का दावा है की, चीनी आयात ने उनके घरेलू चीनी उद्योग को गंभीर नुकसान पहुंचाया है, इसके चलते चीन आयात रोकने का फैसला किया ।

चीनी उत्पादों के आयात पर टैरिफ दर कोटा व्यापार उपायों में से एक था, जिसे चायना ने डब्ल्यूटीओ में शामिल होने पर बनाए रखने के लिए स्पष्ट रूप से स्वीकार किया था। ब्राजील ने चीनी आयात पर बीजिंग के प्रतिबंधों को चुनौती देने के लिए विश्व व्यापार संगठन में चायना के खिलाफ शिकायत की है, डब्ल्यूटीओ द्वारा प्रकाशित एक फाइलिंग सोमवार को दिखाया गया।

डब्ल्यूटीओ ने 31 अगस्त को अपने विदेशी व्यापार कक्ष सीएएमएक्स द्वारा अनुमोदित कदम की पुष्टि की है, चायना ने पिछले साल अतिरिक्त 45 प्रतिशत चीनी शुल्क लगाया था, जिससे ब्राजील के चीनी निर्यात में गिरावट देखि गई । ब्राजीलियाई फाइलिंग में कहा गया है की, इस मई में कर में 40 प्रतिशत की कमी आई थी और मई 2019 में 35 प्रतिशत कटौती की जाएगी। यह चीनी के लिए नियमित टैरिफ के शीर्ष पर आता है, जो पहले 1.945 मिलियन टन पर 15 प्रतिशत और उस कोटा के बाहर किसी भी आयात पर 50 प्रतिशत है ।

डब्ल्यूटीओ के सेफगार्ड एग्रीमेंट इस तरह के टैरिफ को आयात में अचानक और अप्रत्याशित वृद्धि का सामना करने के लिए एक अस्थायी उपाय के रूप में अनुमति देता है, जो राष्ट्रीय उत्पादकों को नुकसान पहुंचने की सम्भावना होती है। ब्राजील ने कहा कि, चायना ने अपने सुरक्षा उपायों के साथ 12 डब्ल्यूटीओ नियम तोड़ दिए है । ब्राजील ने कहा कि स्वचालित आयात लाइसेंसिंग (एआईएल) प्रणाली, जो कोटा के बाहर आयात पर लागू होती है, “स्वचालित” नहीं थी।

चायना के वाणिज्य मंत्रालय का जिक्र करते हुए ब्राजील ने कहा, स्वीकृति केवल एमओएफकॉम द्वारा अनुमोदित अधिकतम स्तर तक दी जाती है। इसके अलावा, एआईएल सिस्टम के तहत, यदि आयात बहुत तेजी से बढ़ती है, तो एमओएफकॉम किसी भी समय चीनी आयात करने के लिए लाइसेंस जारी करने को रोक सकता है। चायना इस प्रकार कोटा चीनी के आयात को सीमित कर रहा है। चायना के वाणिज्य मंत्रालय ने पिछले हफ्ते कहा था कि, चीनी आयात पर इसके सुरक्षा उपाय डब्ल्यूटीओ नियमों के अनुरूप थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here