थाईलैंड में चीनी उद्योग को अतिरिक्त आय अर्जित करने के विकल्प पर जोर देने की सलाह

181

थाईलैंड में चीनी उद्योग को अतिरिक्त आय अर्जित करने के लिए जैव अर्थव्यवस्था पर जोर देने की सलाह

बैंकाक : चीनी उद्योग को अतिरिक्त आय अर्जित करने के लिए जैव-अर्थव्यवस्था पर जोर देने की आवश्यकता है, क्योंकि कोरोना वायरस महामारी के दौरान चीनी की खपत 10% तक गिरती दिखती है, और यह सरकार द्वारा अनुमानित घरेलू मांग की तुलना में बदतर है। थाई सुगर मिलर्स कॉरपोरेशन (TSMC) ने अनुमान लगाया है की, 2019-20 के फसल वर्ष में अनुमानित 2.5 मिलियन टन की तुलना में 2.25 मिलियन टन चीनी की खपत होगी। महामारी के कारण वैश्विक खपत भी काफी सुस्त हुई है, क्योंकि आमतौर पर वैश्विक खपत 2% प्रति वर्ष बढ़ती है।

TSMC बोर्ड के डिप्टी अध्यक्ष सिरिवुत ने किसानों और मिलरों से आग्रह किया कि वे न केवल अपने मुख्य व्यवसायों पर निर्भर रहें, बल्कि गन्ना, चीनी और यहां तक कि नए उत्पादों में विनिर्माण प्रक्रियाओं से निकलने वाले वेस्ट के विकास पर अधिक गंभीरता से विचार करें। जैव-अर्थव्यवस्था, जो ऊर्जा, खाद्य और अन्य मूल्य वर्धित उत्पादों के उत्पादन के लिए कच्चे माल के रूप में अक्षय संसाधनों के उपयोग से संचालित है, राजस्व का नया स्रोत होगा। उन्होंने कहा कि, सरकार जैव-अर्थव्यवस्था को बढ़ावा दे रही है क्योंकि वह चाहती है कि थाईलैंड इथेनॉल उत्पादन का केंद्र बने।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here