केन्या में चीनी की कमी का ऑडिट करने का आह्वान…

287

नैरोबी, केन्या: गन्ना किसानों ने देश के चीनी कमी का ऑडिट करने का आह्वान किया है। केन्या गन्ना उत्पादक संघ (Kenya Sugarcane Growers Association) ने कहा कि, पिछले कुछ वर्षों में चीनी मिलों की संख्या दोगुनी होकर 10 होने के बावजूद, वार्षिक कमी 200,000 मीट्रिक टन पर स्थिर है। संघ ने कहा कि, 10,000 टन से अधिक की दैनिक पेराई गन्ने की मात्रा को देखते हुए, चीनी की कमी 50,000 मीट्रिक टन से अधिक नहीं होनी चाहिए। जनरल रिचर्ड ओगेंडो ने कहा, जब केन्या में केवल पांच चीनी मिलें थी, तो कमी 200,000 मीट्रिक टन था। हम केवल यह पूछ रहे हैं कि गन्ने की पेराई करने वाली 10 मिलों के बावजूद कमी समान क्यों है। हम चिंतित हैं कि देश में शुल्क मुक्त चीनी के आयात को सही ठहराने के लिए इसका दुरुपयोग किया जा सकता है।

कृषि और खाद्य प्राधिकरण चीनी निदेशालय के निदेशक विलिस ऑडी ने हालांकि तर्क दिया कि मांग में वृद्धि के कारण कमी अधिक बना हुआ है। उन्होंने कहा कि, 2018 में केन्या की प्रति व्यक्ति चीनी की खपत 15.8 किलोग्राम थी, लेकिन अब यह 18 किलोग्राम से अधिक हो गई है। ऑडी ने कहा, जैसे-जैसे जनसंख्या बढ़ती है, चीनी की खपत भी बढ़ती जाती है। उन्होंने कहा की, सालाना कुल खपत 900,000 मीट्रिक टन है जबकि औद्योगिक चीनी की मांग 150,000 मीट्रिक टन है। आधिकारिक आंकड़ों से पता चलता है कि 2020 में केन्या का वार्षिक चीनी उत्पादन 1.04 मिलियन टन की खपत के मुकाबले 603,800 टन था, जिसका अर्थ है कि देश को 444,500 टन आयात करना पड़ा। हालाँकि, केन्या ने पिछले साल मई और दिसंबर के बीच 981,000 टन चीनी का आयात किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here