चीनी मिलों द्वारा लोन घोटाले में सीबीआय जांच की मांग…

737

 

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

चेन्नई: चीनी मंडी

तमिलनाडु के तंजाई डिस्ट्रिक्ट कावेरी फार्मर्स प्रोटेक्शन एसोसिएशन ने निजी चीनी मिलों और बैंक अधिकारियों द्वारा कथित रूप से किये गये 350 करोड़ के मेगा घोटाले की सीबीआई जांच की मांग की है, जिसमें किसानों को कर्जदार बताया गया है। कुंभकोणम में गन्ना किसानों की एक बैठक में पारित एक प्रस्ताव ने हाल ही में दावा किया कि, डेल्टा क्षेत्र में दो निजी चीनी मिलों ने 2016-17 में किसानों के एक वर्ग को गुमराह करके राष्ट्रीयकृत और निजी बैंकों से 350 करोड़ प्राप्त किए। घोटाले के अपराधियों ने चालाकी से असहाय किसानों की अज्ञानता का उपयोग कुछ रूपों पर अपने हस्ताक्षर प्राप्त करके किया था, जिसमें कहा गया था कि, वे बैंकों से “गन्ना काटने और परिवहन ऋण” योजना के तहत ऋण लेने के लिए पात्र थे। लेकिन कर्ज की रकम को निजी चीनी मिलों में भेज दिया गया और कर्ज का बोझ किसानों के कंधों पर आ गया।

किसानों को एहसास हुआ कि, उन्हें केवल तब धोखा दिया गया था जब उन्हें ब्याज के साथ ऋण चुकाने या दंडात्मक कार्रवाई का सामना करने के निर्देश देने वाले नोटिस मिले थे। इसके बाद, इस मुद्दे को जिले के उच्च अधिकारियों और मुख्यमंत्री के संज्ञान में लाया गया। जैसा कि प्रयासों ने वांछित परिणाम नहीं दिए, एसोसिएशन ने तमिलनाडु के राज्यपाल के माध्यम से सीधे भारत के राष्ट्रपति से संपर्क करके मामले की सीबीआई जांच की मांग की है।

तंजाई डिस्ट्रिक्ट कावेरी फार्मर्स प्रोटेक्शन एसोसिएशन ने केंद्र सरकार से राज्य में एक सतर्कता दल की प्रतिनियुक्ति करने का भी आग्रह किया, जिसमें प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में विभिन्न स्तरों पर प्रचलित कुप्रथाओं की जाँच हो। साथ ही, एसोसिएशन ने उन किसानों का आभार व्यक्त किया जिन्होंने इस मुद्दे पर पहले ही अदालत का दरवाजा खटखटाया था।

डाउनलोड करे चीनीमंडी न्यूज ऐप:  http://bit.ly/ChiniMandiApp  

SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here