केंद्र के तरफ से चीनी निर्यात कैप बढ़ाने की मांग पर अब तक कोई प्रतिक्रिया नहीं

112

नई दिल्ली : केंद्र सरकार अगले पेराई सत्र शुरू होने तक 10 मिलियन टन चीनी निर्यात कैप की समीक्षा करने के मूड में नहीं नजर आ रही है।

द हिन्दू बिजनेस लाइन में प्रकाशित खबर के मुताबिक, 15 जून को चीनी उद्योग के साथ एक बैठक में, खाद्य मंत्रालय के अधिकारियों ने कथित तौर पर कोई आश्वासन नहीं दिया, जब प्रतिनिधियों ने यह जानना चाहा कि सरकार अनुरोध के अनुसार अतिरिक्त 1 मिलियन टन की अनुमति कब देगी क्योंकि अगले सीजन में उत्पादन वर्तमान सीजन के समान हो सकता है।

वर्तमान में, मिलों के पास 0.6-0.7 मिलियन टन कच्ची चीनी उपलब्ध है, जिसमें बंदरगाहों पर पड़ी कुछ मात्रा शामिल है, जिसे घरेलू बाजार में संसाधित और बेचा नहीं जा सकता है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक उद्योग का कहना है की, रिफाइनरी वाली किसी भी मिल को निर्यात के लिए पहले से बनाई गई ऐसी कच्ची चीनी पर 2-3 रुपये प्रति किलोग्राम अतिरिक्त खर्च करना होगा।

हालांकि, खाद्य मंत्रालय ने मिल मालिकों से उपलब्धता को सत्यापित करने के लिए मिलों या बंदरगाहों पर पड़ी कच्ची चीनी के बारे में विवरण प्रस्तुत करने को कहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here