Ethanol boost: केंद्र सरकार द्वारा अनाज आधारित एथेनॉल परियोजनाओं पर भी जोर

231

नई दिल्ली: 2025 तक पेट्रोल के साथ 25 प्रतिशत एथेनॉल मिश्रण लक्ष्य हासिल करने के लिए, देश को 1,288 करोड़ लीटर एथेनॉल की आवश्यकता है। और इस दिशा में केंद्र सरकार जोरों से काम कर रही है।

महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और छत्तीसगढ़ अनाज आधारित एथेनॉल संयंत्रों के लिए शीर्ष तीन गंतव्यों के रूप में उभरे हैं। केंद्र सरकार द्वारा इस क्षेत्र के लिए एक योजना की घोषणा के बाद पिछले एक साल में कुल परियोजनाओं में से 40 प्रतिशत से अधिक परियोजनाओं को इन तीन राज्यों ने आकर्षित किया हैं।

द हिन्दू बिजनेस लाइन में प्रकाशित खबर के मुताबिक, एक सरकारी अधिकारी ने बताया कि केंद्रीय खाद्य मंत्रालय ने जनवरी 2021 से अब तक 859.11 करोड़ लीटर एथेनॉल उत्पादन की संयुक्त क्षमता वाली 196 परियोजनाओं को मंजूरी दी है। अधिकारी ने कहा कि महाराष्ट्र को 107.38 करोड़ लीटर की कुल क्षमता वाली 35 परियोजनाओं के लिए मंजूरी मिली है, जबकि उत्तर प्रदेश को 108.74 करोड़ लीटर की क्षमता वाली 29 परियोजनाओं और छत्तीसगढ़ में 102.3 करोड़ लीटर की क्षमता वाली 20 परियोजनाओं को मंजूरी मिली है।

बिहार और ओडिशा में नौ परियोजनाओं को मंजूरी दी गई है, जिनमें से प्रत्येक की क्षमता लगभग 59 करोड़ लीटर है। पश्चिम बंगाल में 67.19 करोड़ लीटर उत्पादन क्षमता वाले आठ अनाज आधारित संयंत्रों को मंजूरी दी गई है। जबकि उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, छत्तीसगढ़ और ओडिशा प्रमुख चावल उत्पादक हैं, मध्य प्रदेश और बिहार मुख्य रूप से मक्का के लिए जाने जाते हैं, हालांकि धान भी वहां उगाया जाता है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here