केंद्र सरकार ने चीनी की ‘एमएसपी’ बढ़ाकर चीनी उद्योग को राहत दी: देवेंद्र फडणवीस

868

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

कोल्हापुर : चीनी मंडी

मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा की, केंद्र और राज्य में भाजपा सरकार सत्ता में आई, तब विपक्षियों द्वारा यह आलोचना की गई कि, भाजपा- शिवसेना गठबंधन सरकार को गन्ना किसान और चीनी उद्योग के बारे में कुछ भी पता नहीं है। लेकिन पिछले पांच वर्षों में किसान गन्ने की उच्चतम दर से संतुष्ट हैं। केंद्र सरकार ने चीनी की ‘एमएसपी’ बढ़ाकर चीनी उद्योग को राहत दी है। इसीलिए किसानों का एफआरपी के लिए आंदोलन अब थम गया है।

सरकार ने फरवरी, 2019 को चीनी के एमएसपी को 29 रुपये से 31 रुपये कर दिया था, जिससे मिलर्स को किसानों का बकाया चुकता करने में राहत मिली थी।

कोल्हापुर (कागल) में शाहू सहकारी चीनी मिल के संस्थापक राजे विक्रम सिंह घाटगे की प्रतिमा अनावरण समारोह के मौके पर फडणवीस जनसभा को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर, म्हाडा (पुणे) के अध्यक्ष समरजीत सिंह घाटगे ने आगामी विधानसभा चुनावों के लिए भाजपा के उम्मीदवार के रूप में शक्ति प्रदर्शन किया। मुख्यमंत्री फडणवीस के हाथों, शाहू महाराज की अध्यक्षता में, राजस्व मंत्री चंद्रकांत पाटिल की उपस्थिति में प्रतिमा का अनावरण समारोह संपन्न हुआ।

इस समय, फडणवीस ने राजर्षि शाहू महाराज और राजे विक्रम सिंह घाटगे के सामाजिक कार्यों की सराहना की। फडणवीस को खासदार संजय मंडालिक, खासदार धैर्यशील माने, खासदार संभाजीराजे छत्रपति, और खासदार अन्नसाहेब जोले द्वारा सम्मानित किया गया। फडणवीस ने कहा, केंद्र और राज्य सरकार ने कृषि, किसानों के लिए काम किया है। चीनी उद्योग को राहत देने के लिए सरकार हर मुमकिन कोशिश कर रही है। एफआरपी का 95 प्रतिशत से अधिक भुगतान हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here