चीन द्वारा ‘डब्ल्यूटीओ’ में ब्राजील के साथ विवाद से बचने की कोशिश

बीजिंग : चीनी मंडी

चीन ने ब्राजील को संकेत दिया है कि, ह विश्व बाजार संगठन (डब्ल्यूटीओ) में लंबे समय तक विवाद से बचने के लिए अपने बाजार में ब्राजील की चीनी तक कुछ पहुंच की गारंटी दे सकता है। न ने ‘डब्ल्यूटीओ’ में एक जांच पैनल के लिए अनुरोध शुरू करने से पहले ब्राजील को फरवरी के अंत तक इंतजार करने के लिए कहा, जब वे एक ठोस प्रस्ताव प्रस्तुत कर सकते हैं।

ब्राजील ने अक्टूबर में डब्ल्यूटीओ में चीन की निंदा की क्योंकि चीन ने स्थानीय उत्पादकों की सुरक्षा के लिए तीन साल के लिए चीनी आयात के खिलाफ सुरक्षा उपायों को लगाया गया था। ब्राज़ील सरकार का तर्क है कि चीन ने विश्व व्यापार संगठन के नियमों का सम्मान नहीं किया है।ब्राजील, जो चीनी बाजार का सबसे बड़ा चीनी निर्यातक था, उसकी 2016 में चीन को अपनी निर्यात 2.4 मिलियन मीट्रिक टन थी, वह गिरकर 2017 में 300,000 टन और इस वर्ष लगभग शून्य हो गई है ।

जिनेवा में द्विपक्षीय परामर्श बैठक के दौरान, ब्राजील ने चीन को प्रस्ताव दिया। बीजिंग ने इस दिशा में एक संभावित “लचीलापन प्रयास” के लिए संकेत दिया, लेकिन यह चीनी नववर्ष समारोह के बाद ही जवाब देगा, जो 5 फरवरी से शुरू होगा। चीन ने विश्व व्यापार संगठन को हाल ही में एक अधिसूचना दी, जिसमें यह स्पष्ट था कि उसने इससे अधिक सब्सिडी देने की अपने चीनी उत्पादकों को अनुमति दी।

बीजिंग उत्पादन मूल्य के 8.5% तक के बराबर सहायता दे सकता है, लेकिन 2011 में यह प्रतिशत 6% से 2012 और 2013 में 9.54% हो गया है। चीनियों ने अधिक हालिया डेटा प्रदान नहीं किया है। चीन ने उस साझेदार से सब्सिडी वाला उत्पाद खरीदने के लिए भारत के साथ बातचीत करना भी शुरू कर दिया है। भारत एक अन्य देश है जिसे 2019 में ब्राजील द्वारा डब्ल्यूटीओ में शिकायत कि जाएगी क्योंकि इसकी नीति स्थानीय चीनी निर्यात का समर्थन करती है। गन्ना उद्योग संघ यूएनआईसीए को संदेह है कि नई दिल्ली द्वारा दी गई घरेलू सहायता कार्यक्रमों और निर्यात सब्सिडी ने कीमतों और उत्पादन में गिरावट के परिदृश्य में विश्व चीनी बाजार पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाला है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here