चीन का बिजली संकट औद्योगिक केंद्रों से घरों तक पहुंचा

87

बीजिंग : चीन का बिजली संकट दिनोंदिन गहराता नजर आ रहा है।चीन के ऊर्जा संकट ने लोगों को प्रभावित करना शुरू कर दिया है।कई उत्तरी प्रांतों के निवासी पहले से ही ब्लैकआउट से जूझ रहे हैं, जबकि ट्रैफिक लाइट बंद होने से सड़कों पर अराजकता पैदा हो रही है।बिजली कि किल्लत से चीन का दक्षिणी औद्योगिक केंद्र ग्वांगडोंग बुरी तरह से प्रभावित हुआ है।आपको बता दे कि, वांगडोंग की अर्थव्यवस्था ऑस्ट्रेलिया की अर्थव्यवस्था से भी बड़ी है।यहां लोगों से घरों में प्राकृतिक प्रकाश का उपयोग करने और कारखानों में बड़ी बिजली कटौती लागू करने के बाद एयर-कंडीशनर के उपयोग को सीमित करने के लिए कहा गया है।चीन दो मोर्चों पर बिजली के मुद्दों का सामना कर रहा है। कुछ प्रांतों ने उत्सर्जन और ऊर्जा की तीव्रता के लक्ष्यों को पूरा करने के लिए औद्योगिक बिजली कटौती का आदेश दिया है, जबकि अन्य प्रांतों को बिजली की वास्तविक कमी का सामना करना पड़ रहा है। कि लिओनिंग, जिलिन और हेइलोंगजियांग के उत्तरी प्रांतों को सप्ताहांत में ब्लैकआउट का सामना करना पड़ा, ट्रैफिक लाइट में कटौती के कारण यातायात पर बुरा असर पड रहा है।

नोमुरा होल्डिंग्स लिमिटेड और चाइना इंटरनेशनल कैपिटल कॉर्प के अर्थशास्त्रियों ने बिजली की कमी के कारण अर्थव्यवस्था विकास के अनुमानों को कम कर दिया है, और कारखानों में बिजली की कटौती वैश्विक आपूर्ति श्रृंखलाओं प्रभावित करने की चिंता बढ़ा रही है। सीआईसीसी के अर्थशास्त्रियों ने एक रिपोर्ट में कहा कि बिजली कटौती से तीसरी और चौथी तिमाही में चीन की विकास दर में 0.1 से 0.15 प्रतिशत की कटौती होने की संभावना है। नोमुरा ने शुक्रवार को अपने पूरे साल के विस्तार अनुमान को 8.2% से घटाकर 7.7% कर दिया, और अब बिजली की कमी के कारण पूर्वानुमानों में और कटौती की संभावना देखता है।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here