चीनीमंडी एक्सक्लूसिव: वैश्विक चीनी बाजार पर जानिये रिस्क मैनेजर का नजरिया

259

कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप ने दुनियाभर के हर उद्योग की सकारात्मक गति को कम कर दिया है। इस महामारी के कारण दुनिया भर का चीनी उद्योग भी काफी प्रभावित हुआ है। उद्योग के दिग्गजों द्वारा इस संकट से निपटने के नये नये रास्तों की तलाश जारी है। आर्चर कंसल्टिंग के निदेशक अर्नाल्डो लुइज कोररिया, जो रिस्क मैनेजर है और उनके पास कृषि उत्पाद बाजार में लगभग 30 वर्षों का दीर्घ अनुभव है, ने ‘चीनीमंडी’ के साथ एक विशेष साक्षात्कार में, चीनी उद्योग के वैश्विक परिदृश्य पर अपने विचार साझा किए।

कोरोनो वायरस महामारी के बीच चीनी खपत में गिरावट और अपेक्षित रिकवरी के बारे में पूछे जाने पर, अर्नोल्ड ने कहा की, “यह एक बहुत ही दिलचस्प सवाल है! मैं समझता हूं कि चीनी की मांग और बिक्री में बढ़ोतरी के लिए हमें और कुछ महीनों का इंतजार करना होगा। आईएमएफ द्वारा प्रकाशित जीडीपी की दर देशों द्वारा स्वयं प्रकाशित आंकड़ो की तुलना में अधिक दिखाई दे रही है। ब्राजील का मामला देखें, जहां आईएमएफ ने जीडीपी की दर में 9.1% की गिरावट दिखाई है और ब्राजील सरकार ने जीडीपी की दर में 5.5% गिरावट दिखाई है। अमेरिका और यूरोप में भी यही स्थिति है, जहां आईएमएफ और देशों द्वारा जारी जीडीपी की दरों में काफ़ी अंतर है। मुझे लगता है कि, थोड़ी देर इंतजार करना समझदारी है, ताकि सही अनुमान लगाया जा सके।

चीनी उद्योग में निवेश की स्थिति और कच्चे तेल की कीमतों पर उन्होंने कहा, “मेरा मानना है कि, ब्राजील में चीनी उद्योग का विस्तार धीमा होगा, लेकिन यह आवश्यक है। आज हम ATR / एटीआर की लगभग उतनी ही मात्रा का उत्पादन करते हैं जितना 11-12 फसल पहले करते थे। आज, चीनी मिलें अपनी सुरक्षा के लिए जोखिम प्रबंधन पर अधिक ध्यान केंद्रित कर रही हैं, ताकि उनकी सुरक्षा के लिए सुरक्षा उपकरण (hedge, options और अन्य डेरिवेटिव) का उपयोग किया जा सके। यह जोखिम प्रबंधन के उपायों में एक स्पष्ट परिपक्वता दर्शाता है।

कोरोना महामारी के बाद अब चीनी उद्योग की स्थिति सामान्य नहीं रही है, इसलिए प्रबंधन के तरीकें भी बेहद पेशेवर होने की जरूरत है। हालांकि, मैं चीनी क्षेत्र को लेकर बहुत आशान्वित हूं। मुझे लगता है कि, जोखिम प्रबंधन पर ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए, ताकि चीनी उद्योग जीवित रह पाएगा। ब्राजील को इथेनॉल की जरूरत है ! जब अर्थव्यवस्था फिर से पटरी पर लौटेगी, और हम आगे बढ़ने लगेंगे तो हम स्पष्ट रूप से गन्ने के उत्पादन में कमी महसूस करेंगे जो घरेलू और विदेशी दोनों बाजारों के लिए ईंधन और चीनी की आंतरिक खपत को पूरा करने के लिए अपर्याप्त होगा। पांच वर्षों में यह संभव है कि अगर विस्तार तुरंत शुरू न हो, भले ही धीमी गति से, तो ब्राजील में गन्ने की कमी हो सकती है।

इस साल यूरोपीय संघ और मध्य अमेरिका की भूमिका पर अपनी राय साझा करते हुए उन्होंने कहा, ब्राजील इथेनॉल और चीनी उत्पादन में अहम रोल निभाएगा। उत्पादन लागत कम करने के लिए मिलें अधिक कार्यक्षम होगी, उत्पादन लागत में कटौती के प्रयास कियें जायेंगे। प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से सरकारी सब्सिडी नहीं मिली तो कई देशों का चीनी उद्योग अन्य चीनी उत्पादक देशों के साथ प्रतिस्पर्धा नही कर सकता हैं। पिछलें दो वर्षों में, ब्राजील का अंतर्राष्ट्रीय बाजार से चीनी उत्पादन का हिस्सा लगभग 10 मिलियन टन तक कम हुआ, जिसे थाईलैंड और भारत द्वारा पूरा किया गया। मुझे विश्वास है कि, इस साल हम धीरे-धीरे इस स्थान को फिर से हासिल करेंगे। यूरोप को बीट के साथ समस्याओं के कारण इस साल अपने उत्पादन में कमी की उम्मीद है और मध्य अमेरिका की बाजार हिस्सेदारी भी सिमित रहेगी।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here