नवजोत सिंह सिद्धू ने की गन्ना मूल्य में बढ़ोतरी की मांग

208

जालंधर: गन्ने के मूल्य (SAP) में वृद्धि की मांग करते हुए किसानों ने पंजाब सरकार के खिलाफ अपना विरोध जारी रखा है, इस बीच पार्टी के राज्य प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि, पंजाब में एसएपी पड़ोसी राज्यों उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और हरियाणा की तुलना में कम है। अब गन्ने की कीमतों को लेकर सिद्धू और मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के बीच टकराव शुरू हुआ है। सिद्धू की टिप्पणी को मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह पर एक और हमले के रूप में देखा जा रहा है, जो दर्शाता है कि कांग्रेस पार्टी के भीतर चल रही उथल-पुथल अभी खत्म नहीं हुई है। दोनों नेता लंबे समय से आमने-सामने हैं।

“गन्ना किसानों के मुद्दे को सौहार्दपूर्ण ढंग से तुरंत हल करने की आवश्यकता है …. अजीब बात है कि पंजाब में खेती की उच्च लागत के बावजूद राज्य की सुनिश्चित कीमत हरियाणा/यूपी/ उत्तराखंड की तुलना में कम है। कृषि के अग्रदूत के रूप में, पंजाब एसएपी बेहतर होना चाहिए!… सिद्धू ने एक ट्वीट में कहा।

पंजाब के विभिन्न क्षेत्रों के गन्ना किसान 20 अगस्त से जालंधर में राष्ट्रीय राजमार्ग और एक रेलवे लाइन को अवरुद्ध करके अनिश्चितकालीन विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, जिसके परिणामस्वरूप वाहनों का यातायात और रेलवे की आवाजाही बाधित हो गई है।

द हिन्दू में प्रकाशित खबर के मुताबिक किसान नेता मंजीत सिंह राय ने कहा कि, किसान संघ के नेताओं और गन्ना आयुक्त कार्यालय के प्रतिनिधियों और कृषि विश्वविद्यालय के विशेषज्ञों ने सोमवार को जालंधर में एक बैठक की। हम गन्ने के लिए एसएपी के रूप में ₹400 प्रति क्विंटल की मांग कर रहे हैं। आज (24 अगस्त) को मुख्यमंत्री इस मुद्दे पर निर्णय की घोषणा कर सकते हैं। जब तक हमारी मांगें पूरी नहीं हो जाती, हम अपना धरना जारी रखेंगे। इससे पहले 22 अगस्त को राज्य सरकार के प्रतिनिधियों से बातचीत हुई थी, लेकिन कोई ठोस नतीजा नहीं निकला था।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here