आर्थिक सहायता देकर बंद पड़ी चीनी मिलों को किया जाएगा शुरू

275

मांड्या: कर्नाटक पहले से ही सूखे से प्रभावित है, जिसके बाद वहां गन्ने के उत्पादन पर काफी असर पड़ा है। मायशुगर (MySugar) और पांडवपुरा (PSSK) चीनी मिलों के ठप होने से मंड्या और आसपास के क्षेत्रों में गन्ना किसानों की स्तिथि बहुत ही ख़राब हो चुकी है। अब, राज्य के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने दोनों चीनी मिलों को पुनर्जीवित करने का आश्वासन दिया है।

उन्होंने MySugar और PSSK कारखानों को फिर से शुरू करने के लिए वित्तीय मदद का आश्वासन दिया है। येदियुरप्पा ने कहा, “अगले 15 से 20 दिनों में एक बैठक आयोजित की जाएगी, जहां इस संबंध में निर्णय लिया जाएगा। और अगर क्रशिंग शुरू करना संभव नहीं है, तो अगले साल से पेराई शुरू करने के लिए कदम उठाए जाएंगे। ”

हाल ही में कर्नाटक राज्य प्रतिनिधि संघ (KRRS) के प्रतिनिधिमंडल ने राज्य में कृषि संकट की स्तिथि बताने के लिए येदियुरप्पा से मुलाकात की थी और उससे लेकर स्थायी समाधान तलाशने की गुजारिश भी की थी। मुख्यमंत्री के साथ बैठक के दौरान, KRRS ने उनसे अनुरोध किया थी कि वे इन मिलों के तहत गन्ना को मंड्या और अन्य जिलों की मिलों में स्थानांतरित करें और इसके लिए परिवहन लागत भी वहन करे।

रिपोर्टों के अनुसार, मिल को पुनर्जीवित करने के लिए, सरकार मिलों की व्यवहार्यता का अध्ययन करेगी और निरीक्षण के लिए एक तकनीकी टीम भेजेगी।

राज्य में गन्ना किसान पहले से ही नाराज़ में हैं क्योंकि वे गन्ना बकाया मिलने का इंतजार कर रहे हैं। जिसके बाद उन्होंने मिलों और सरकार के खिलाफ अपना विरोध तेज कर दिया है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here