चीनी मिल में पेराई सत्र की समापन तिथि को लेकर असमंजस

960

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

कुशीनगर 01 जून (UNI) उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक मात्र चालू रामकोला चीनी मिल में पेराई सत्र की समापन तिथि को लेकर किसानों में असमंजस की स्थिति बनी हुयी है।

त्रिवेणी चीनी मिल के प्रबंधक मानवेंद्र राय ने पत्रकारों को बताया कि दो जून के बाद कभी भी मिल बंद हो सकती है। इसलिए जिन किसानों का गन्ना खेत में खड़ा है, वे शीघ्रता करें, ताकि गन्ने की पेराई कर सत्र समापन किया जा सके। उनका कहना है कि किसानों की समस्याओं को देखते हुए पर्ची फ्री कर दिया गया है। किसान मिल गेट पर गन्ना लाएं और तुरंत पर्ची लेकर गेट पर गिराएं।

उन्होने बताया कि अभी तक मिल ने 98 लाख क्विंटल गन्ने की पेराई की है जिससे 11.5 लाख क्विंटल चीनी बनाया जा चुका है। किसानों को 23 अप्रैल तक भुगतान खातों में भेज दिया गया है।

दूसरी ओर जिला गन्ना अधिकारी वेद प्रकाश सिंह ने कहा कि मिल परिक्षेत्र में अभी तीन लाख क्विंटल गन्ना किसानों का खेत में खड़ा है। ऐसे में बिना संपूर्ण गन्ने की पेराई किए प्रबंधन को किसी दशा में मिल बंद करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। किसानों के हितों के साथ कोई समझौता नहीं होगा। मिल को संपूर्ण गन्ने की पेराई करनी होगी।

उधर, नवनिर्वाचित सांसद विजय कुमार दूबे ने कहा कि जब तक किसानों के खेत में गन्ना है, तब तक रामकोला मिल चलेगी। सरकार की छवि खराब करने वाले बख्शे नहीं जाएंगे।

जिलाधिकारी डॉ. अनिल कुमार सिंह ने कहा कि जिन किसानों का गन्ना खेत में है, वे मिल गेट पर आपूर्ति करने में तेजी लाएं। किसी भी दशा में गन्ना छोड़ कर मिल को बंद नहीं होने दिया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here