कई सहकारी मिलें ‘एमएसपी’ से नीचे में बेच रही है चीनी?

 

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

मुंबई : चीनी मंडी

महाराष्ट्र की दर्जनों सहकारी चीनी मिलें न्यूनतम बिक्री मूल्य (एमएसपी) से कम पर चीनी बेच रही हैं, जिससे दरों की बढ़ोतरी में मंदी तो आ गई है, लेकिन किसानों को गन्ने के बकाया का भुगतान करने के लिए मिलों के नकदी प्रवाह में सुधार हुआ है। कानून के तहत, एमएसपी के नीचे चीनी बेचना अपराध है। लेकिन कई सारी चीनी मिलें सरकार को फंसाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रही हैं।

नेशनल फेडरेशन ऑफ को-ऑपरेटिव शुगर फैक्ट्रीज (एनएफसीएसएफ) के प्रबंध निदेशक प्रकाश नाइकनवरे ने कहा की, हमने यह भी सुना है कि, मिलें एमएसपी के नीचे चीनी बेच रही हैं। यह एक बुरा तरीका है, अगर सरकार इसकी जांच शुरू करती है, तो वे बड़ी मुश्किल में आ जाएंगे और बुरे फसेंगे। वर्तमान में चीनी मिलें थोक उपभोक्ताओं से मांग कम होने के कारण बड़े पैमाने पर मंदी के दौर से गुजर रही हैं, जिनमे आइसक्रीम और पेय निर्माता शामिल है। वास्तव में, 15 फरवरी को घोषित एमएसपी में 2 रुपये प्रति किलोग्राम से आगे बढ़कर 31 रुपये प्रति किलोग्राम पर बहुत सारा व्यापार हुआ, जिसके परिणामस्वरूप इन्वेंट्री की पूरी पाइपलाइन तैयार हो गई।

थोक बाजार में आपूर्ति की अधिकता के कारण चीनी की कीमतें एमएसपी से थोड़ी अधिक ऊपर  हैं। इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (इस्मा) ने फरवरी के अंत तक महाराष्ट्र में चीनी उत्पादन का 8.3 मिलियन टन होने का अनुमान लगाया है, जो कि एक साल पहले की अवधि में 7.47 मिलियन टन था। इस सीजन में पेराई शुरू करने वाली 187 मिलों में से छह ने गन्ने की कमी की वजह से चालू सीजन में बंद हो गइ है।

महाराष्ट्र स्टेट कोऑपरेटिव शुगर फैक्ट्रीज़ फेडरेशन के प्रबंध निदेशक संजय खताल ने कहा, जबकि ऐसे मामले (एमएसपी से नीचे चीनी बिक्री) हो रहे हैं, यह साबित करना मुश्किल है क्योंकि मिलें बिक्री का चालान नहीं बना रही हैं। यहां तक कि अगर चालान 30 रुपये किलो के लिए किया जाता है, तो मिल भविष्य में सम्मानित करने के लिए 1 रुपये प्रति किलोग्राम की अंतर राशि की पोस्ट-डेटेड चेक भी दिखा सकती है। खताल ने मिलों से गलत व्यवहार नहीं करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा की, सरकार ने चीनी उद्योग के मांग पर एमएसपी को बढ़ाया है। अब, उद्योग को सरकार के निर्धारित दिशानिर्देशों का पालन करना ही चाहिए।

डाउनलोड करे चीनीमंडी न्यूज ऐप:  http://bit.ly/ChiniMandiApp  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here